नेशनल

ओवैसी का RSS पर वार कहा- अदालत के फैसले से पहले कैसे पता कि राम मंदिर ही बनेगा

आशुतोष कुमार राय, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
536
| जनवरी 29 , 2018 , 09:15 IST

एक बार फिर से राम मंदिर पर विवाद खड़ा होता दिखाई दे रहा है। IMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने राम मंदिर को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर जमकर निशाना साधा है। ओवैसी का कहना है कि जब यह मामला (राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद) अभी सुप्रीम कोर्ट में है तो फिर आरएसएस ने पहले ही इस बात की घोषणा कैसे कर दी है।

ओवैसी ने सवाल उठाया कि आखिर आरएसएस को इतना यकीन कैसे है कि फैसला उनके पक्ष में आएगा? साथ ही ओवैसी ने बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी पर बाबरी ढांचा ढहाये जाने के मामले में चल रहे आपराधिक साजिश के मुकदमे पर भी सवाल उठाया है।

गौरतलब है कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने पिछले दिनों एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि राम जन्मभूमि पर सिर्फ राम मंदिर ही बनेगा। भागवत ने यह भी कहा था कि राम मंदिर के ऊपर एक भगवा झंडा बहुत जल्द लहराएगा।

उन्होंने दावा किया था कि राम जन्मभूमि स्थल पर कोई दूसरा ढांचा नहीं बनाया जा सकता। उधर, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक विश्व हिंदू परिषद ने कहा है कि अक्टूबर 2018 से राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा।

ओवैसी ने आरएसएस के दावे पर एक बार फिर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि जब मामला सुप्रीम कोर्ट में है तो फिर पहले से ही तारीख की घोषणा कैसे की जा रही है। ओवैसी ने इसके पहले भी इस दावे के लिए आरएसएस प्रमुख भागवत पर निशाना साधा था। तब ओवैसी ने पूछा था कि आखिर किस अधिकार से मोहन भागवत यह कह रहे हैं कि अयोध्या में मंदिर ही बनेगा?

इसके साथ ही ओवैसी ने आडवाणी और जोशी पर चल रहे आपराधिक साजिश के मुकदमे पर भी सवाल खड़े किए। ओवैसी ने कहा, 'मुझे लखनऊ से इस मामले को लेकर कई तरह की जानकारियां मिली हैं। मुझे पता चला है कि आडवाणी और जोशी पर चल रहे इस आपराधिक मामले में अभी तक कोई गवाह आगे नहीं आया है। जो सामने भी आए वे बदल गए।'

बता दें कि इससे पहले ओवैसी ने अयोध्या मामले में आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर की मध्यस्थता पर भी सवाल उठाया था। ओवैसी ने कहा था कि श्री श्री झूठ बोल रहे हैं कि उन्होंने सभी पक्षकारों से बात की है।

इसे भी पढ़ें-: CIC का निर्देश: PMO को बताना होगा PM मोदी के साथ कौन-कौन जाते हैं विदेश

ओवैसी ने आरोप लगया था कि यह पूरी तरह से देश को गुमराह करने जैसा है। उन्होंने कहा था कि इस तरह किसी मुद्दे का मसला हल नहीं होगा।


कमेंट करें