अभी-अभी

ट्रंप के निशाने पर पाकिस्तान, आतंकी कैंपों पर अमेरिका करेगा बड़ा हमला!

अमितेष युवराज सिंह, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
138
| जून 20 , 2017 , 15:25 IST | वॉशिंगटन

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान पर सख्त रूख अपनाने जा रहे हैं। अमेरिका, पाकिस्तान में स्थित आतंकी ठिकानों पर सख्त कार्रवाई करने की तैयारी में है। अफगानिस्तान में लगातार हो रहे आतंकी हमलों को ध्यान में रखते हुए अमेरिकी अधिकारियों ने इस बात के संकेत दिए हैं कि आतंक के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई की जा सकती है।

अमेरिकी अधिकारियों ने न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को बताया कि ट्रंप प्रशासन पाकिस्तान में सक्रिय आतंकी संगठनों को खत्म करने के लिए इस्लामाबाद के खिलाफ कड़ा रुख अपनाने के लिए तैयार है। अमेरिका की मुख्य चिंता उन पाकिस्तानी आतंकवादी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने की है, जो कि अफगानिस्तान को निशाना बनाते हैं।

Terrorist-training-camps

पाकिस्तान के साथ निपटने के लिए ट्रंप प्रशासन जिन तरीकों पर विचार कर रहा है, उनमें ड्रोन्स हमले बढ़ाना, पाकिस्तान को दी जा रही आर्थिक फंडिंग को रोकना और एक सहयोगी देश के तौर पर इस्लामाबाद को दिए गए दर्जे को घटाने जैसे उपाय शामिल हैं। नाम न बताने की शर्त पर एक अमेरिकी अधिकारी ने रॉयटर्स को यह जानकारी दी।

Gettyimages-631336868_wide-e2a76e6e0692320b51bb09f27b9742a6fd14ff94

कुछ अधिकारी ऐसे भी हैं, जो अमेरिका के इन प्रयासों की सफलता को लेकर बहुत उत्साहित नहीं है। उनका कहना है कि पाकिस्तान अपने यहां सक्रिय आतंकवादी संगठनों को मदद देना बंद करे, इसके लिए अमेरिका पहले भी बहुत कोशिश कर चुका है लेकिन इन प्रयासों का कोई खास नतीजा नहीं निकला। इसके अलावा पाकिस्तान के धुर-विरोधी भारत के साथ अमेरिका के रिश्ते पहले की तुलना में और मजबूत हो रहे हैं, ऐसे में अमेरिका की ये ताजा कोशिशें कितनी कामयाब होंगी, इसपर संदेह है।

Nawaz_sharif

ट्रंप प्रशासन 16 साल से अफगानिस्तान में चले आ रहे युद्ध पर अपनी नीति की समीक्षा कर रहा है। इस मामले में व्हाइट हाउस और पेंटागन ने अब तक कोई बयान नहीं दिया है। उन्होंने इस समीक्षा के पूरे होने से पहले इस पर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। वहीं वाशिंगटन में स्थित पाकिस्तानी दूतावास ने भी इसे लेकर कोई टिप्पणी नहीं की है।

हालांकि इस बीच पेंटागन प्रवक्ता एडम स्टंप ने एक बयान में कहा है कि अमेरिका और पाकिस्तान राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों पर साथ हैं। लेकिन जो चर्चा है वो अकेले ही पाकिस्तान में आतंकियों के सुरक्षित अड्डों पर अधिक सकारात्मक कोशिश की तरफ इशारा करती है।


कमेंट करें