ख़ास रिपोर्ट

आज है ATM का हैप्पी बर्थडे, 50 साल की हो गई पैसे उगलने वाली मशीन

राहुल राजहंस, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
118
| जून 27 , 2017 , 13:14 IST | नई दिल्ली

अगर आपसे कहा जाए कि आज एक ऐसी मशीन का बर्थडे है जिसके बिना आप रह नहीं सकते तो आपका ध्यान सबसे पहले शायद अपने स्मार्टफोन पर जाएगा। लेकिन हम आपको बता दें कि आज एटीएम मशीन का बर्थडे है। जी हां आज से पचास साल पहले आज ही के दिन इस पैसा उगलने वाली मशीन की शुरूआत हुई थी।

लंदन में लगी थी पहली मशीन

50 साल पहले 27 जून 1967 में दुनिया का पहला एटीएम मशीन लंदन के एन्फ़ील्ड में बार्क्लेज़ बैंक की शाखा में खोला गया था। आज पचास साल पूरे होने के मौके पर बैंक ने इसे सोने का एटीएम बना दिया है।

_96694014_263cf40b-5456-45b3-bc4e-6ece1b96bf79

अभी और होने हैं बदलाव

अपने 50 साल के सफर में एटीएम मशीनों ने भारी तकनीक के बदलाव को झेला है, जो अब भी जारी है। एक्सपर्ट की माने तो आने वाले वक्त में एटीएम मशीन को और अपग्रेड किया जाएगा। जिससे बैंक में होने वाले 80 प्रतिशत काम एटीएम मशीन में ही होने लग जाएंगे।

जॉन शेफ़र्ड-बैरन ने बनाई थी मशीन

बैंकिंग की परिभाषा बदल देने वाले ऑटोमेटेड टेलर मशीन या एटीएम बनाई थी जॉन शेफ़र्ड-बैरन ने। बैरन का जन्म 23 जून, 1925 को शिलॉन्ग में हुआ, जो आज मेघालय में है, लेकिन तब असम का हिस्सा हुआ करता था। स्कॉटलैंड से ताल्लुक़ रखने वाले उनके पिता उत्तरी बंगाल में चटगांव पोर्ट कमिश्नर्स के चीफ़ इंजीनियर थे। साल 2010 में बैरन की मौत हो गई।

_96694018_3406df91-95b6-4343-8d24-64d09db11c33

नहाते वक्त आया था आईडिया

आज जिस मशीन ने बैंकिंग सिस्टम में क्रांती ला दी है, उस मशीन के खोज का किस्सा बड़ा दिलचस्प है। बताया जाता है कि जॉन शेफ़र्ड-बैरन को नहाते वक्त ऐसी मशीन बनाने का खयाल आया कि एक ऐसी मशीन बनाई जाए जिससे पैसे निकाले जा सकें, वो भी बिना बैंक गए।

देशभर में लगे हैं 2 लाख से ज्यादा एटीएम

रिज़र्व बैंक के मुताबिक़ देश भर में 56 सरकारी और निजी बैंकों के दो लाख से अधिक एटीएम हैं। इनमें एक लाख से अधिक ऑनसाइट और एक लाख से कुछ कम ऑफ़साइट एटीएम हैं।


कमेंट करें