ख़ास रिपोर्ट

हादसे को दावत: 60 प्रतिशत लोग बाइक चलाते वक्त करते हैं फोन का इस्तेमाल

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
237
| जुलाई 28 , 2017 , 08:24 IST | नई दिल्ली

तकरीबन 60 प्रतिशत भारतीय दोपहिया वाहन चलाते समय अपने मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं, जबकि 14 प्रतिशत पैदल चलने वाले भारतीय सड़क पार करते वक्त सेल्फी लेते हैं। यह खुलासा सैमसंग द्वारा कराए गए एक सर्वे में हुआ है। यह सर्वे सैमसंग के सेफ इंडिया अभियान के तहत किया गया है, जिसका उद्देश्य सड़क पर सेल्फी लेने सहित गैर-जिम्मेदाराना तरीके से मोबाइल फोन के इस्तेमाल के खतरों के बारे में जागरूकता पैदा करना है।

FL06_DATA-BIKE_1558098m

'सेफ इंडिया' अभियान फिल्म को बहुत अच्छा रिस्पांस मिला है, केवल 32 दिनों में यूट्यूब पर इसे 10 करोड़ से अधिक बार देखा जा चुका है। 'सेफ इंडिया' अभियान की शुरुआत हाल ही में केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी ने की थी।

Article-2509137-197A69AA00000578-503_634x776

सर्वे में कहा गया, "लगभग 60 प्रतिशत भारतीय दोपहिया वाहन चालकों ने स्वीकार किया कि वे वाहन चलाने के दौरान भी अपने मोबाइल फोन पर सहजता से उत्तर देते हैं। वहीं 14 प्रतिशत पैदल चलने वाले भारतीयों ने स्वीकार किया कि वह सप्ताह में कम से कम एक बार सड़क पार करते वक्त सेल्फी लेते हैं।"

48d1471f-5801-498b-a903-a2f292201e17_0_mobile use bike

भारत के 12 शहरों में किए गए इस सर्वे में सामने आया है कि तीन में से एक कार ड्राइवर यदि जरूरी हो तो कार चलाते वक्त टेक्स्ट मैसेज भेजता है। सर्वे के मुताबिक, 64 प्रतिशत पैदल चलने वाले लागों ने कहा कि वह सड़क पार करते समय नियमित रूप से फोन का जवाब देते हैं। वहीं 18 प्रतिशत ने कहा कि वह अपने बॉस की कॉल का तुरंत जवाब देते हैं, फिर चाहे वह सड़क ही क्यों न पार कर रहे हों।

19VZVISKCITYREG2CEL_929028f 

गडकरी ने कहा, "मोबाइल फोन का गैरजिम्मेदारी पूर्ण उपयोग, जिसमें रोड पर सेल्फी लेने जैसा नया ट्रेंड भी शामिल है, आज के समय में सड़क दुर्घटना का प्रमुख कारण बनता जा रहा है। हम हर साल सड़क दुर्घटनाओं के कारण होने वाली डेढ़ लाख लोगों की मौत के आंकड़े को कम करना चाहते हैं। यह दुनियाभर के देशों के आंकड़ों से लगभग 50 प्रतिशत ज्यादा है।"

Msid-52651370,width-400,resizemode-4,handsfree

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, भारत में सड़क दुर्घटना के चलते हर चार मिनट में एक मौत होती है। करनेगी मेलो यूनिवर्सिटी, इंद्रप्रस्थ इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, दिल्ली एवं नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, तिरुचिरापल्ली की रिपोर्ट के अनुसार न केवल दुनियाभर में सबसे ज्यादा रोड एक्सीडेंट भारत में होते हैं, बल्कि दुनिया भर में सेल्फी के चलते होने वाली कुल मौतों में से अकेले 50 प्रतिशत भारत में होती हैं।


कमेंट करें