राजनीति

अखिलेश के राज में छोटी बहू अपर्णा के NGO का खूब हुआ विकास (ख़ुलासा)

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
149
| जुलाई 3 , 2017 , 19:05 IST | लखनऊ

यूपी में योगी सरकार आने से पहले पूर्ववर्ती अखिलेश सरकार में भाभी अपर्णा यादव के एनजीओ के लिए सबसे ज्यादा आर्थिक अनुदान दिए गए। आरटीआई से हुए खुलासे से पता चला है कि उत्तर प्रदेश गो सेवा आयोग के द्वारा गोशाला संगठनों को दिए गए कुल आर्थिक अनुदान का 86.4 फीसदी हिस्सा अपर्णा यादव के एनजीओ को दिया गया था। बता दें कि मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा यादव प्रतीक यादव की पत्नी है।

आरटीआई से मिले जवाब में कहा गया है कि समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के जीव आचार्य एनजीओ को उत्तर प्रदेश गौसेवा आयोग के द्वारा दिए जाने वाले अनुदान का 86.4 प्रतिशत हिस्सा दिया गया। यह एनजीओ राजधानी लखनऊ में अमौसी के निकट कान्हा उपवन गौशाला को चलाता है, जिसका मालिकाना हक लखनऊ नगर निगम के पास है।

इस पूरे मामले पर बचाव की मुद्रा में अपर्णा यादव ने भी बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि इसमें क्या गलत है जो संस्था पशुओं का रक्षा के लिए बेहतर काम कर रही है तो उस संस्था को सरकारी अनुदान देना कहां से अनुचित है। 

अपर्णा यादव के एनजीओ को मिला 9 करोड़ 66 लाख रुपये

यह जानकारी गोसेवा आयोग के पीआईओ संजय यादव के द्वारा दिए गए एक आरटीआई के जवाब से सामने आई। सूचना के अनुसार 2012 से 2017 तक के पांच साल के दौरान आयोग ने 9 करोड़ 66 लाख रुपए का कुल अनुदान जारी किया, जिसमें से 8 करोड़ 35 लाख रुपए तो केवल अपर्णा यादव के जीव आश्रय एनजीओ को ही दिया गया।

Aparna 1

योगी राज में अपर्णा यादव की एनजीओ को नहीं मिला फंड

वित्तीय वर्ष 2012-13, 2013-14, 2014-15 के दौरान जीव आश्रय को क्रमश: 50 लाख रुपए, 1 करोड़ 25 लाख रुपए और 1 करोड़ 41 लाख रुपए का अनुदान दिया गया। इसके बाद 2015-16 में अपर्णा यादव के एनजीओ को 2 करोड़ 58 लाख रुपए तथा 2016-17 में 2 करोड़ 55 लाख रुपए का ग्रांट दिया गया। वर्तमान सत्र 2017-18 में आयोग की तरफ से विभिन्न गौशालाओं को 1 करोड़ 5 लाख रुपए दिए गए, लेकिन जीव आश्रय को कुछ नहीं मिला। ललितपुर के दयोदया गोशाला को सबसे अधिक 63 लाख रुपए मिले।

 


कमेंट करें