नेशनल

मुंबई ब्लास्ट का गुनहगार लौटना चाहता है पुर्तगाल, खटखटाया कोर्ट का दरवाजा

अनुराग गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
98
| जून 18 , 2017 , 12:11 IST | मुंबई

12 मार्च 1993 के बॉम्बे बम ब्लास्ट केस में अंडरवर्ल्ड डॉन अबु सलेम समेत पर टाडा कोर्ट ने 16 जून को फैसला सुनाया। जिसके बाद अब अबु सलेम ने यूरोप कोर्ट ऑफ ह्यूमन राइट्स का दरवाजा खटखटाया है।

इतना ही नहीं सलेम ने अपनी याचिका में पुर्तगाल लौटने की इच्छा भी जताई है। मीडियो रिपोर्ट्स के मुताबिक अबु सलेम का मानना है कि मुंबई कोर्ट द्वारा किया गया ट्रायल गैरकानूनी है। बता दें कि 1993 को 12 बम धमाकों से दहले मुंबई केस में 16 जून को कोर्ट ने अबु सलेम समेत 6 लोगों को दोषी पाया था।

90530333-jpg_071827

जबकि 19 जून (सोमवार) को दोषियों को सजा सुनाई जाएगी। वहीं 2005 में पुर्तगाल से प्रत्यर्पण किए गए अबु सलेम को फांसी की सजा नहीं हो सकती है क्योंकि पुर्तगाल से प्रत्यर्पण इसी शर्त पर हुआ था कि सलेम को मौत की सजा नहीं दी जाएगी।

बताया जा रहा है कि अबु सलेम को कम से कम 25 साल की कैद की सजा जरूर हो सकती है। हालांकि सोमवार को यह स्पष्ठ हो जाएगा कि अबु सलेम को कितनी सजा सुनाई गई है। गौरतलब है कि इस केस में सुनवाई का यह सेकंड फेज था।

1993-mumbai-blasts-final-verdict-will-the-accused-be-sent-to-the-gallows

इससे पहले 2007 में हुई सुनवाई के पहले फेज में टाडा कोर्ट ने याकूब मेमन और संजय दत्त समेत 100 लोगों को दोषी ठहराया था, जबकि 23 लोग बरी हुए थे। मेमन को फांसी पर चढ़ाया जा चुका है।


कमेंट करें