नेशनल

केरल में कठमुल्लों की दादागिरी, बिंदी लगाने पर 5वीं क्लास से बच्ची को मदरसे से निकाला

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1922
| जुलाई 7 , 2018 , 17:22 IST

वैसे तो कई फिल्मों में मुस्लिम लड़की बिंदी लगाती हुई दिखाई दी है, कई फिल्मों को बिंदी के साथ फिल्माया भी गया। एक शॉर्ट फिल्म में 'बिंदी' लगाने पर कक्षा 5 की छात्रा को मदरसे से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। शॉर्ट फिल्म में उसे अभिनय का असाइनमेंट मिला था। फिल्म में सीन की जरूरत के हिसाब से छात्रा को 'बिंदी' लगाकर शूटिंग करनी थी। इस सीन को लेकर मदरसे से जुड़े लोगों ने विवाद को जन्म दे दिया। विवाद बढ़ता देख मदरसे के प्रशासनिक विभाग ने पांचवी कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उसे बाहर का रास्ता दिखा दिया।

Noname

मामला केरल के कोझिकोड क्षेत्र का है। छात्रा के खिलाफ मदरसे की कार्रवाई पर गुस्साए पिता ने सोशल मीडिया का सहारा लिया और अपना दर्द बयां किया। उन्होंने अपनी सोशल पोस्ट में लिखा है कि उनकी बच्ची भाग्यशाली थी कि मदरसे से बचकर चली आई.. इसमें कोई शक नहीं कि उसपर पत्थर भी बरसाए जा सकते थे।

छात्रा के पिता उमर मलयिल की पोस्ट पर एक दिन में 7,000 लाइक आए हैं। उनकी पोस्ट को 2,500 लोगों ने शेयर किया है। हजारों लोगों ने छात्रा के साथ हुए कृत्य पर कट्टरपंथियों की निंदा की है।
पिता ने पोस्ट में लिखा है कि उनकी 10 साल की बेटी पढ़ाई, संगीत, नृत्य सभी क्षेत्र में अच्छी है। उसने स्कूल और मदरसा स्तर की प्रतियोगिताओं में कई पुरस्कार जीते हैं। उसकी इन प्रतिभाओं को नजरअंदाज करते हुए मदरसा ने उसके खिलाफ कार्रवाई की है। मेरी बेटी की गलती बस इतनी थी कि उसने माथे पर बिंदी लगा ली।

छात्रा के पिता की पोस्ट पर ज्यादातर लोगों ने मदरसे की कार्रवाई के विरोध में कमेंट किया है। कुछ लोगों ने मदरसे की कार्रवाई के समर्थन में कमेंट करते हुए लिखा है कि 'बिंदी' लगाना गैर इस्लामी और शरिया कानूनों के खिलाफ है। 


कमेंट करें