राजनीति

लखनऊ: लिटरेरी फेस्टिवल में छात्रों ने कन्हैया कुमार को मारे थप्पड़, लगे कन्हैया मुर्दाबाद के नारे

अर्चित गुप्ता | 0
115
| नवंबर 10 , 2017 , 23:19 IST | नई दिल्ली

लखनऊ में शुक्रवार से शुरू हुए लिटरेरी फेस्टिवल में अपनी किताब 'बिहार से तिहाड़' पर चर्चा के लिए लखनऊ के शिरोज हैंगआउट पहुंचे कन्हैया कुमार को लेकर हंगामा शुरू हो गया। इस दौरान मौजूद समर्थकों ने ''भारत माता की जय'' कन्हैया कुमार ''जिंदाबाद'' के नारे लगाए गए। वहीं, एवीबीपी और हिंदू युवा वाहिनी मेम्बर्स ने ''देश का गद्दार व मुर्दाबाद'' के नारे लगाए। कन्हैया कुमार के खिलाफ नारेबाजी कर रहे कुछ छात्रों ने उन्हें थप्पड़ भी जड़ दिए। एबीवीपी और कन्हैया कुमार के समर्थकों के बीच धक्का-मुक्की शुरू हो गई।

कन्हैया कुमार के विरोध को देखकर एसिड सरवाइवर्स रोने लगी और भीड़ से हाथ जोड़कर शांत होने के लिए विनती करने लगी। बीवीपी समर्थकों के इस हंगामें से लिटरेरी फेस्टिवल पूरी तरह से बा‌धित हो गया। इस कार्यक्रम को आयोजित कर रहीं शिरोज हैंगआउट की एसिड अटैक पीड़ितों ने लगातार एबीवीपी कार्यकर्ताओं को समझाने का प्रयास किया, लेकिन उन्होंने किसी की एक ना सुनी।

Aaaaaaa

घटना की सूचना पर करीब एक घंटे बाद पहुंची पुलिस ने विरोध कर रहे कार्यकर्ताओं को वहां से बाहर निकाला। इस दौरान करीब एक घंटे तक कार्यक्रम स्थागित रहा। बाद में मंच पर बोलने आए कन्हैया कुमार ने कहा कि यह पहला मौका है जब किसी लिटरेरी फेस्टिवल में मेरा राजनैतिक विरोध हो रहा है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में अलग विचार धारा होने के बावजूद भी एक मंच से दोनों को बोलने की आजादी है। यही लोकतंत्र की खूबी है।

Untitled


कमेंट करें