नेशनल

बाबरी केस: सप्रीम कोर्ट के आदेश से आडवाणी, जोशी के राष्ट्रपति बनने के सफर पर लगेगा ब्रेक?

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
148
| अप्रैल 19 , 2017 , 13:11 IST | नई दिल्ली

इसी साल जुलाई में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होना है। कयास लगाये जा रहे हैं कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी इस पद के लिए प्रबल दावेदार हैं। लेकिन अब बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने इन दोनों दावेदारों को लगभग दौड़ से बाहर कर दिया है।

कोर्ट के फैसले के मुताबिक अब जोशी और आडवाणी समेत बीजेपी के 13 नेताओं पर आपराधिक षडयंत्र रचने का मुकदमा चलाया जाएगा।

Aj

इससे पहले बीजेपी की तरफ से लगातार संकेत दिए जा रहे थे कि आडवाणी या मुरली मनोहर जोशी में से किसी एक को देश का नया राष्ट्रपति बनाया जा सकता है। राजनीतिक हल्कों में माना जा रहा था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) जोशी की दावेदारी पर विचार कर रही थी और जल्द ही इस नाम पर आम सहमति बनाने की कोशिश की जानी थी। 

Adv

लालकृष्ण आडवाणी

अभी तक राष्ट्रपति की रेस में लालकृष्ण आडवाणी शामिल माने जा रहे थे, लेकिन सुप्रीम कोर्ट के ताजा फैसले के बाद उनके लिए ये राह मुश्किल लग रही है। खुद उनका नैतिक अतीत उनके लिए रोड़ा है। जब 1996 में अटल बिहारी वाजपेयी पीएम बने तब आडवाणी जैन हावाला कांड में नाम आने के कारण उनकी कैबिनेट का सदस्य रहना गवारा नहीं किया।

अब सवाल है कि क्या आडवाणी खुद ही राष्ट्रपति की रेस से बाहर होने का एलान करेंगे। नैतिक दबाव के साथ ही आडवाणी पर कानूनी दबाव भी है।

Uma

उमा भारती

उमा भारती इस वक़्त मोदी कैबिनेट में मंत्री हैं और इस केस में वो भी नामज़द हैं ऐसे में उनपर भी नैतिक दबाव है कि क्या वो अपने मंत्री पद से इस्तीफा देती हैं। उनका अपना नैतिक आचरण भी यही बताता है कि उनके लिए पद पर रहना आसान नहीं होगा। बता दें कि जब 2004 में उमा भारती का नाम हुबली दंगे में आया तो उन्होंने मध्यप्रदेश की सीएम पद से इस्तीफा दे दिया था। अब उनके सामने सवाल है कि क्या अब वो अपने पद से इस्तीफा देंगीं?

Kalyan

कल्याण सिंह

कल्याण सिंह इस वक़्त राजस्थान के राज्यपाल हैं। इस केस में वो भी नामजद हैं, लेकिन बतौर राज्यपाल उनपर कानूनी इम्यूनिटी मिली हुई है। लेकिन उनपर भी नैतिक दबाव है कि वो क्या फैसला लेते हैं।

Joshi

मुरली मनोहर जोशी को अभी मिला है पद्म विभूषण

गौरतलब है कि इसी साल मोदी सरकार ने जोशी को पद्म विभूषण सम्मान दिया है। दोनों जोशी और लालकृष्ण आडवाणी बीजेपी के मार्गदर्शक मंडल के सदस्य हैं। हालांकि दोनों नेता शुरुआत में मोदी सरकार से असहमति के संकेत देते रहे लेकिन हाल में इन नेताओं से संबंध मोदी और अमित शाह से सुधर रहे थे।

भुवनेश्वर में पीएम ने जोशी के साथ किया था डिनर

हाल ही में भुवनेश्वर में हुई पार्टी कार्यकारिणी में पीएम मोदी और मुरली मनोहर जोशी ने अमित शाह के आमंत्रण पर एक साथ डिनर किया था। इससे पहले जून 2016 में इलाहाबाद में हुई पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मौके पर भी दोनों नेताओं में बढ़ती करीबी का संकेत दिया गया था। इन संकेतों के बाद माना जा रहा था कि पीएम मोदी और पार्टी अध्यक्ष उनकी उम्मीदवारी पर मुहर लगवाने की कोशिश में हैं।

Murli-manohar-joshi-and-l.k.advani


कमेंट करें