नेशनल

अहमदाबाद को मिला यूनेस्को विश्व विरासत शहर का दर्ज़ा (तस्वीरें)

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
99
| सितंबर 2 , 2017 , 12:57 IST | अहमदाबाद

अहमदाबाद देश का पहला 'विश्व विरासत शहर' बन गया है। म्‍युनिसिपल कॉर्पोरेशन मुख्‍यालय में आयोजित इवेंट में यूनेस्‍को की ओर से ये ऐलान किया गया। गुजरात के सीएम विजय रुपानी को अहमदाबाद को हेरिटेज सिटी बनाने का सर्टिफिकेट सौंपा गया।

बता दें कि यूनेस्को व‌र्ल्ड हेरिटेज कमेटी के 41वें सेशन में अहमदाबाद को भारत के पहले वैश्रि्वक धरोहर वाले शहर के रूप में मान्यता देते हुए इसे देश का प्रथम ऐतिहासिक धरोहर वाला शहर घोषित किया गया था। अहमदाबाद को वैश्रि्वक धरोहर के रूप में प्रमाणपत्र मिलने के बाद सीएम ने खुशी जताई है।

उन्होंने कहा कि अब हमारी जिम्मेदारियां और बढ़ गई हैं। पिछले 600 सालों से यह एक शांतिप्रिय शहर के रूप में पहचाना जाता रहा है। यही वो शहर है जहां से महात्मा गांधी ने अंग्रेजों से देश को आजाद करने के लिए स्वतंत्रा संग्राम की शुरुआत की थी। यूनेस्को की डायरेक्टर जनरल इरिनिया वोकोबो ने कहा कि अहमदाबाद में कई ऐसे हिंदू और जैन मंदिर हैं जिनकी नक्काशी काफी सुंदर है।

आपको बता दें कि अहमदाबाद को हेरिटेज सिटी बनाने के लिए 2010 में उस वक्‍त आवेदन दिया गया गया था जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्‍यमंत्री थे। लंबी चौड़ी प्रक्रिया पूरी होने के बाद अब जाकर अहमदाबाद को औपचारिक तौर पर हेरिटेज सिटी के रूप में मान्‍यता दी गई है।

अाखिर अहमदाबाद ही क्यों बना विश्व विरासत शहर-

अहमदाबाद को विश्व विरासत शहरों में शामिल करने का कारण इसकी ऐतिहासिकता है। अहमदाबाद के किलेबंद शहर को सुल्तान अहमद शाह ने 15 वीं सदी में साबरमती नदी के किनारे बसाया था। यह शहर वास्तुकला का शानदार नमूना पेश करता है जिसमें छोटे किले, किलेबंद शहर की दीवारों और दरवाजों के साथ कई मस्जिदें और मकबरे महत्वपूर्ण हैं। शहर में बाद में बनाए गए हिंदू और जैन धर्म के मंदिर भी हैं। यह शहर छठी शताब्दी से अब तक गुजरात की राजधानी के रूप में बना हुआ है।

 


कमेंट करें