नेशनल

एयरचीफ मार्शल का ख़ुलासा, फाइटर जेट की कमी से बेहाल है फोर्स

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
124
| जून 19 , 2017 , 17:15 IST | नई दिल्ली

भारतीय वायुसेना के एयरचीफ मार्शल बीएस धनोवा ने कहा है कि एयरफोर्स में फाइटर जेट्स की कमी है। उन्होंने कहा कि ये कुछ ऐसा है जैसे क्रिकेट टीम 11 की बजाय 7 खिलाडियों से खेले। जब हम पाकिस्तान को आतंकी हमले को लेकर अपनी ताकत दिखाने को तैयार हैं, तो सरकार को जेट्स की संख्या बढ़ाने के बारे में भी सोचना चाहिए।

Dhanoa 1

भारतीय वायुसेना हर मोर्चे पर सक्षम

एक अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में एयरचीफ मार्शल धनोवा ने कहा कि,

इंडियन एयरफोर्स (IAF) हर तरह से सक्षम है। हम माओवादियों के खिलाफ एक्शन ले सकते हैं लेकिन ये सब तब होगा जब सरकार से हरी झंडी मिलेगी

उन्होंने कहा कि,

अगर हमें दो मोर्चों (चीन-पाकिस्तान) पर लड़ना है तो हमारे पास कम से कम 42 फाइटर स्क्वॉड्रन होनी चाहिए

धनोवा ने ये भी कहा कि दो मोर्चों पर लड़ने के लिए IAF अपने मौजूदा संसाधन के सहारे ही हर मोर्चे पर लड़ने में सक्षम है और हम इन्हीं संसाधनों में न्यायसंगत फोर्स इंप्लायमेंट पर काम करेंगें।

Fighter

उन्होंने कहा कि जब हमारी स्ट्रेन्थ में इजाफा हो जाएगा तब हम आसमान में दुश्मन से आसमान में बेहतर तरीके से लड़ पाएंगे।

एरियल सर्जिकल स्ट्राइक पर क्या बोले धनोवा

क्या पाकिस्तान में एरियल सर्जिकल स्ट्राइक की प्लानिंग थी, इस सवाल पर धनोवा ने कहा कि,

अगर हम पाक के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) में आतंकी हमले के मद्देनजर एयर स्ट्राइक करते हैं तो इसका फैसला सरकार को करना है। हम हर चीज के लिए तैयार हैं

क्या नक्सलियों के खिलाफ हवाई हमले किए जा सकते हैं

क्या नक्सलियों के खिलाफ हवाई हमले किए जा सकते हैं, इस पर धनोवा ने कहा कि जमीन पर इंटेलिजेंस और सर्विलांस मुहैया कराने में हमारा रोल सीमित है। इंटेलिजेंस या फिर केजुअल्टी ऑपरेशन के लिए हम रिमोटली पायलट एयरक्राफ्ट (आरपीए) के अलावा हेलिकॉप्टर का इस्तेमाल करते हैं

आतंकी हमले को छोड़ दें तो हम अपनी सीमा में एयर स्ट्राइक नहीं कर सकते। अगर ऐसा करना है तो इसका फैसला सरकार करेगी।

ये है भारतीय वायु सेना की स्थिति

एयरफोर्स के पास महज 33 स्क्वॉड्रन बची हैं। फ्रांस से राफेल मिलने पर वह 35वीं स्क्वॉड्रन होगी। एक स्क्वॉड्रन में 16-18 फाइटर प्लेन होते हैं

इन 33 में से 11 स्क्वॉड्रन में MiG-21 और MiG-27 फाइटर हैं। इनमें सिर्फ 60 फीसदी ही ऑपरेशन के लिए तैयार हैं

मिग-21 और मिग-27 की हालत बहुत अच्छी नहीं है। इनमें हादसे होते रहे हैं

Fighter

 


कमेंट करें