बिज़नेस

हर तिमाही एयरटेल को हो रहा है 550 करोड़ का नुकसान, जानिये क्या है वजह

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
101
| जुलाई 21 , 2017 , 17:56 IST | मुंबई

दूरसंचार क्षेत्र की दिग्गज कंपनी भारती एयरटेल का कहना है कि रिलायंस जियो के आने के बाद उसे भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। भारती एयरटेल ने दावा किया कि रिलायंस जियो के नेटवर्क से होने वाली कॉल्स की सुनामी के चलते उसे हर तिमाही 550 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है। साथ ही एयरटेल ने रिलायंस जियो के उस दावे को खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि कॉल कनेक्शन शुल्कों से मौजूदा आपरेटरों ने भारी लाभ कमाया है।

एयरटेल का आरोप है कि जियो अन्‍य कंपनियों की मेहनत से तैयार मोबाइल बाजार पर फ्री कॉल्‍स के दम पर बिजनेस खड़ा करना चाह रहा है। भारती एयरटेल के चीफ रेग्‍युलेटरी ऑफिसर रवि गांधी ने कहा है कि भारत में टेलीकॉम सेक्‍टर में प्रतिस्‍पर्धा होनी चाहिए न कि मोनोपोली।

एयरटेल ने आरोप लगाया कि जियो नेटवर्क से आने वाली हर मिनट कॉल से करीब 21 पैसे का नुकसान हो रहा है। सुनील भारती मित्तल की कंपनी एयरटेल ने कहा कि जियो की मोबाइल टर्मिनेशन शुल्क एमटीसी को समाप्त करने की मांग उसकी ओर से बाजार बिगाडऩे वाली कीमत रणनीति को जारी रखने की चाल है। कंपनी ने कहा कि रिलायंस जियो का एमटीसी से एयरटेल को अतिरिक्त आमदनी कार आरोप न केवल झूठा है बल्कि हास्यास्पद भी है।

Airtel2-kGHG--621x414@LiveMint

एयरटेल ने कहा कि भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) 14 पैसे प्रति मिनट का एमटीसी तय किया है। यह लागत से भी कम बैठता है जो 35 पैसे प्रति मिनट बैठती है। एमटीसी खत्‍म करने से रिलायंस जियो को ही फायदा होगा। भारती एयरटेल ने कहा कि मौजूदा अनुमान के मुताबिक शून्‍य एमटीसी से इंडस्‍ट्री पर हर साल 15,000 करोड़ से 20,000 करोड़ रुपए का बोझ पड़ेगा।

एयरटेल के अनुसार वर्ष 2003 में कॉलिंग पार्टी पे (सीपीपी) व्‍यवस्‍था देश में लागू की गई थी। इस व्‍यवस्‍था में कॉल करने वाले को पैसे देने होते हैं, जबकि कॉल।


कमेंट करें