नेशनल

दिल्ली में सीजन का सबसे घना कोहरा, 10 फ्लाइट्स डायवर्ट, 200 पर असर

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
272
| दिसंबर 31 , 2017 , 18:02 IST

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र समेत पूरे उत्तर भारत में घना कोहरा है। रविवार को दिल्ली में सीजन का सबसे घना कोहरा दर्ज किया गया और विजिबिलिटी 50 मीटर तक पहुंच गई। इसके चलते 200 से ज्यादा फ्लाइट्स पर असर पड़ा। 150 फ्लाइट्स में देरी हुई, 50 फ्लाइट्स डायवर्ट की गईं और 20 को कैंसल करना पड़ा। रविवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स भी खतरनाक दर्ज किया गया। हालांकि देर शाम एयरपोर्ट ऑथिरिटी ने फ्लाइट ऑपरेशन चालू कर दिया। 

25 इंटरनेशनल फ्लाइट्स में देरी

एयरपोर्ट्स वेबसाइट के हवाले से न्यूज एजेंसी ने बताया कि 17 घरेलू और 8 इंटरनेशनल फ्लाइट्स का रूट डायवर्ट किया गया जबकि 11 इंटरनेशनल फ्लाइट्स डिले की गईं। एक इंटरनेशनल और 3 घरेलू समेत 4 फ्लाइट्स कैंसल कर दी गईं। दिल्ली और आईजीआई एरिया के भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के डायरेक्टर आरके जेनामणि के मुताबिक, "सुबह साढ़े 5 बजे से रनवे पर विजिबिलिटी महज 50-75 मीटर थी। इस साल ये सबसे खराब अनुभव था।

बता दें कि दिल्ली एयरपोर्ट के पास लो विजिबिलिटी में लैंडिंग के लिए एडवांस्ड टेक्नोलॉजी (CAT IIIB) है। इससे 50 मीटर विजिबिलिटी होने पर भी लैंडिंग हो सकती है। वहीं, टेकऑफ के लिए कम से कम 125 मीटर विजिबिलिटी होना चाहिए।

15 ट्रेनें कैंसल, 57 लेट

नॉर्दर्न रेलवे के पीआरओ ने बताया कि कोहरे के चलते 15 ट्रेनों को कैंसल कर दिया गया है और 57 ट्रेनें लेट चल रही हैं। जबकि 18 ट्रेनों का शेड्यूल बदला गया है। मौसम विभाग ने मैक्सिमम टेम्परेचर 23 डिग्री और मिनिमम टेम्परेचर 7 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान जताया था। साथ ही कहा था कि पूरे दिन घना कोहरा रहेगा।

दिल्ली में दो महीने से खराब हालात

बीते 2 महीने से दिल्ली में खराब मौसम बना हुआ है। स्मॉग के चलते लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा है। स्मॉग की वजह दिल्ली से सटे इलाकों में पराली जलाने को जिम्मेदार बताया गया था। स्मॉग के चलते नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने निर्माण के काम, दिल्ली में भारी वाहनों के प्रवेश और इंडस्ट्रियल इमिशन पर रोक लगा दी थी।

उसी दौरान अरविंद केजरीवाल सरकार ने ऑड-ईवन फॉर्मूला लागू करने की बात कही लेकिन महिलाओं और बाइक को इससे बाहर रखने को कहा। हालांकि एनजीटी ने साफ कहा कि अगर ऑड-ईवन लागू होता है तो महिलाओं-बाइक को भी इससे बाहर नहीं रखा जाएगा।

दिल्ली में टोक्यो से भी 100 गुना ज्यादा पॉल्यूशन

7 नवंबर दिल्ली के इतिहास का सबसे प्रदूषित दिन रहा। सुबह छह से दोपहर 12 बजे तक पीएम 2.5 का मैक्सिमम लेवल सभी स्टेशनों पर 500 के पार था। मैक्सिमम लेवल 1556 रिकॉर्ड किया गया। स्मॉग बढ़ने की 5 वजहें हैं, जिसमें एग्रीकल्चरल बर्निंग भी शामिल है। दिल्ली का पॉल्यूशन दुनिया के सबसे प्रदूषित बड़े शहरों में शामिल लंदन और टोक्यो के सालाना एवरेज लेवल से करीब 100 गुना ज्यादा है। वहीं, पेरिस के पीएम 2.5 लेवल से करीब 85 और बीजिंग से 18 गुना ज्यादा है। लंदन और टोक्यो का औसत पीएम 2.5 लेवल 15, पेरिस का 18 और बीजिंग का 85 है।

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, दुनिया में पिछले 5 साल में एयर पॉल्यूशन का लेवल 13% बढ़ा है। वहीं, चीन ने 5 साल में बीजिंग में एयर पॉल्यूशन का लेवल 5% कम किया है। दिल्ली में 5 साल में 13% तक हवा पॉल्यूटेड हुई, बीजिंग में पॉल्यूशन का लेवल 5% बेहतर हुआ।


कमेंट करें