ख़ास रिपोर्ट

9 साल बाद फिर से खुलेगी दुनिया की सबसे विवादित Guantanamo Bay जेल

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1571
| जनवरी 31 , 2018 , 16:07 IST

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने पूर्ववर्ती बराक ओबामा की नीति के उलट ग्वांतानामो बे सैन्य जेल को खोलने के एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए हैं। ट्रंप ने अपने इस कदम की घोषणा मंगलवार की रात 'स्टेट ऑफ यूनियन एड्रेस' के दौरान की। ट्रंप ने कहा कि उन्होंने रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस से 'हमारी सैन्य हिरासत नीति की फिर से जांच करने व गुआंतनामो बे में हिरासत की व्यवस्थाओं को खोलने' का निर्देश देते हुए आदेश पर हस्ताक्षर कर दिया है।



यह फैसला ओबामा नीति के उलट है। उन्होंने कहा था कि वह इस विवादित जगह को 'जल्द से जल्द व्यावहारिक' रूप से बंद कर देना चाहते हैं।

सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, अपने भाषण में ट्रंप ने इस्लामिक स्टेट कैदियों को गुआंतनामो बे भेजने की संभावना जताई।

ट्रंप ने कहा, "मैं कांग्रेस से यह सुनिश्चित करने के लिए कह रहा हूं कि आईएस व अल कायदा के खिलाफ लड़ाई में हमें सभी जरूरी शक्तियों को आतंकवादियों को हिरासत में रखने के लिए जारी रखना होगा। आतंकवादियों के बहुत से मामलों में यह गुआंतनामो बे होगा।"

आदेश में कहा गया, "अमेरिका कानूनी रूप से राष्ट्र की सुरक्षा की जरूरतों के मद्देनजर अतिरिक्त बंदियों को अमेरिकी नौसैनिक स्टेशन गुआंतनामो बे स्थानांतरित कर सकता है।"

इसमें गुआंतनामो बे के संचालन को 'कानूनी, सुरक्षित, मानवीय और अमेरिकी व अंतर्राष्ट्रीय कानून' के अनुरूप कहा गया है।

क्यूबा में मौजूद इस जेल का इस्तेमाल 9/11 के हमलों के बाद उन्हें कैद में रखने के लिए किया गया है, जिन्हें अमेरिका 'दुश्मन लड़ाके' कहता है। अभी सिर्फ 41 कैदी वहां हैं।

ओबामा के समय में सैकड़ों कैदियों को इस जेल से स्थानांतरित कर दिया गया था।

5875f956c46188e3798b45c4

क्यों शुरू हुई जेल?

क्यूबा के यूएस नेवल बेस पर बनी इस जेल को शुरू करने का मकसद विरोधी पक्ष के उन कैदियों को कैदखाने में रखना था, जिन पर अमेरिका के मुताबिक जेनेवा सम्मेलन के नियम या अमेरिकी कानून लागू नहीं होता। 12 साल पहले बना ये कैदखाना शुरू से ही ह्यूमन राइट वॉयलेशन और सैन्य क्रूरता को लेकर विवादों में रहा है। फिर चाहे आंखों पर पट्टी बंधे घुटनों के बल बैठे कैदियों की फोटोज हों या मोटी बेड़ियों में जकड़े कैदियों पर हंसते सैनिकों का मामला।

1213guantanamobaytorture_0

महंगी जेलों में से एक

ये जेल दुनिया की सबसे महंगी जेलों में से एक है। एबीसी न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में खुद ओबामा ने इस जेल को बहुत महंगा बताया था। इंटरव्यू में दिए गए उनके आंकड़ों के मुताबिक, यहां एक कैदी पर सालाना 3 मिलियन डॉलर ( 20 करोड़ रु.) खर्च होते हैं। 2015 में जेल का सालाना खर्च 3067 करोड़ रुपए (450 मिलियन डॉलर) तक आया था।

Miami-Herald-Inmates-Guards-at-Camp-X-Ray

दुनिया की सबसे विवादित जेल

नेवल बेस पर मौजूद अमेरिका की ये मिलिट्री जेल दुनिया की सबसे विवादित जेल है। ये जेल कैदियों के साथ होने वाली क्रूरता और मानवाधिकारों को दरकिनार करने को लेकर विवादित रही है। पहले फोटोग्राफर मैट स्प्रैक ने रिपोर्टर सियान रेमेंट के साथ मिलकर यहां का हाल कैमरे में कैद किया था। इसके अलावा रॉयटर्स ने भी इसकी फोटोज जारी की थीं। इन फोटोज में जेल में बंद कैदियों, उनके इस्तेमाल के सामान, जेल के गार्ड्स, खाने की जगह से लेकर उनके रहने की जगह और मेडिकल फेसिलिटी तक तमाम चीजों को दिखाया गया था।


कमेंट करें