राजनीति

पाक में मणिशंकर अय्यर ने जिन्ना को बताया 'कायद-ए-आजम', गरमायी सियासत

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
376
| मई 6 , 2018 , 08:12 IST

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में उठे जिन्ना की तस्वीर वाले विवाद के बीच मणिशंकर अय्यर ने एक नए विवाद को जन्म दे दिया है। अय्यर ने जिन्ना की तारिप करते हुए "कायद-ए-आजम" कहकर विवाद को हवा दे दी है। लाहौर में मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए अय्यर ने कहा, वर्तमान एनडीए सरकार भारत में हिंदुत्व की अवधारणा पेश कर रही है लेकिन इसका विरोध भी हो रहा है।

जिन्ना की तस्वीर को एएमयू से हटाए जाने को लेकर निशाना साधते हुए अय्यर ने वहां कहा, कायदे-ए-आजम जिन्ना की तस्वीर को उनके (सरकार) गुंडों ने एएमयू से हटवा दी है।

बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब किसी राज्य के चुनाव में पाकिस्तान का जिक्र हुआ हो।2014 के बाद से कई राज्य के चुनावों में पाकिस्तान से जुड़ी बातों को मुद्दा बनाकर परोसा जाता रहा है। गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान अय्यर ने प्रधानमंत्री मोदी के लिए 'नीच' शब्द का इस्तेमाल किया था जिसके बाद कांग्रेस ने उन्हें पार्टी से निकाल दिया था।

गौरतलब है कि मणिशंकर अय्यर पाकिस्तान के लाहौर पहुंचे हुए हैं, जहां वो 'थ्रेट टू सिक्युरिटी इन द 21th सेंचुरी; फाइंडिंग ए ग्लोबल वे फॉरवर्ड' इंटरनेशनल कॉफ्रेंस में शिरकत करेंगे। इस कॉन्फ्रेंस को लाहौर यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित किया जा रहा है, जिसके "India, Pakistan; Seeking through Truth, Reconciliation and Peace" नामक शीर्षक सत्र के मुख्य प्रवक्ता मणिशंकर अय्यर हैं।

अमित शाह का सवाल-:

अय्यर पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने ने कांग्रेस पर जोरदार हमला किया है। अमित शाह ने अपने ऑफिशल अकाउंट से ट्वीट किया कि कांग्रेस और पाकिस्तान के बीच विचारों का अद्भुत सामंजस्य है। यही नहीं, उन्होंने यह भी कहा, 'मैं यह नहीं समझ पाया हूं कि चाहे गुजरात चुनाव हो या कर्नाटक, कांग्रेस हमेशा पाकिस्तान को बीच में क्‍यों लाती है।'

ट्विटर पर अमित शाह ने यह भी लिखा, 'कल (शुक्रवार) को पाकिस्तान सरकार ने टीपू सुल्तान को याद किया, जिसकी जयंती कांग्रेस मनाती है और आज मिस्टर मणिशंकर अय्यर ने जिन्ना की जमकर तारीफ कर दी। चाहे गुजरात चुनाव हों या फिर कर्नाटक चुनाव, मैं इस बात को नहीं समझ पाया कि कांग्रेस हमेशा पाकिस्तान में क्यों दिलचस्पी दिखाती है।'

घरेलू राजनीति से पाक को रखें दूर-:

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, 'गुजरात चुनाव के दौरान हमने देखा कि किस तरह पाकिस्तान के शीर्ष अधिकारियों के साथ बीजेपी को हराने के लिए बैठकें की जाती थीं और अब टीपू सुल्तान और जिन्ना के लिए कांग्रेस का प्रेम साफ नजर आ रहा है। मैं कांग्रेस से इस बात की अपील करता हूं कि हमारी घरेलू राजनीति में विदेशी राष्ट्रों को मत शामिल करें। संवाद को हमेशा सभ्य और सकारात्मक रखें।'


कमेंट करें