नेशनल

ये है कहानी वाली 'नानी', जो वॉट्सएप पर बच्चों को सुनाती है किस्सा

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
77
| अक्टूबर 12 , 2017 , 21:41 IST | नई दिल्ली

आज के वक्त में वो नानी और दादी द्वारा परियों की कहानी शायद ही बच्चों को सुनने को मिलता हो और जिन्हें सुनने को मिलता हो ये जरूरी नहीं की वो सुनते ही हो। ऐसे दौर में हम मौजूद है जहां दादी और नानी की कहानियां कहीं खो सी रही है। लेकिन, हमारे बीच एक ऐसी ही कहानी वाली नानी मौजूद है जो डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिये बच्चों को कहानियां सुना रही हैं।

वे बच्चे जो अपनी दादी-नानी से दूर रहते है उनके लिए ये कहानी वाली नानी किसी वरदान से कम नहीं है। पेशे से कहानी वाली नानी रिटायर्ड टीचर है जिनका नाम सरला है। शुक्रवार और शनिवार को सरला कहानियों को अपनी ही आवाज में रिकॉर्ड कर बच्चों को भेजती हैं।

20LRP4SARLAMINNI4

आपको बता दें कि नानी जो कहानियां बच्चों को भेजती है उसकी क्लिप 8 से 10 मिनट की होती है। यह क्लिप आज की जनरेशन को ध्यान में रखकर नानी बनाती है। जो हिन्दी और अंग्रेजी दोनों में होती है। सरला देवी ने इसकी शुरूआत पांच महीने पहले की थी। अब उनके देश विदेश में उनके 10 हजार से अधिक सब्सक्राइवर हैं।

शुरुआती वक्त में नानी अपने भाई के बच्चों को कहानियां रिकॉर्ड करके भेजती थी। घर-परिवार के लोगों और दोस्तों को उनके द्वारा कहानी कहने का अंदाज काफी पसंद आता था। जिसकी वो सब तारीफे किया करते थे। जिसके बाद इन सभी लोगों ने सरला देवी को व्हॉट्सएप पर ग्रुप बनाने की सलाह दी और कहा कि वो हर हफ्ते कहानी रिकॉर्ड करके इसमें भेजे।

सरला बच्चों को कहानी सुनाने के लिए कोई चार्ज नहीं लेती हैं। वहीं बच्चे भी नानी को मैसेज भेजकर जानकारी देते है कि उन्हें कहानी कैसी लगी। बता दें कि कहानी वाली नानी के चर्चे अब दुबई, ब्रिटेन, अमेरिका, स्विट्जरलैंड, ऑस्ट्रेलिया आदि देशों तक है। दरअसल, सरला देवी जब छोटी थी तो उनकी नानी या फिर दादी उन्हें रोजाना कहानियां सुनाया करती थी।

Kahaniwali nani

उन्होंने बताया कि तब मेरे मोबाइल फोन और कंप्यूटर नहीं हुआ करते थे आज के बच्चों के पास ये सारी सुविधाएं उपलब्ध हैं। लेकिन, उनके पास नानी और दादी की कहानियां नहीं हैं। क्योंकि परिवार छोटे होते जा रहे हैं। बच्चों की अपने नाना-नानी या दादा-दादी से बिछडते जा रहे हैं।


कमेंट करें