नेशनल

BJP ज्वाइन नहीं करेंगी शर्मिष्ठा, RSS कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे पापा को दी नसीहत

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1504
| जून 7 , 2018 , 13:56 IST

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के RSS के कार्यक्रम में हिस्सा लेने से पहले उनकी बेटी ने अपनी नाराज़गी जाहिर की है। शर्मिष्ठा मुखर्जी ने न सिर्फ अपने पिता के RSS के प्रोग्राम में शामिल होने को लेकर सवाल उठाए हैं बल्कि अपनी BJP जॉइन करने वाली वायरल हो रही ख़बरों को भी खारिज किया। बेटी ने अपने पिता के इस दौरे को भगवा विचारधारा को बढ़ावा देन वाला कदम भी बताया है। और साथ ही पूर्व राष्ट्रपति को नसीहत दी कि आपके भाषण को भूला दिया जाएगा लेकिन तस्वीरें रहेंगी और उन्हें गलत बयानों के साथ फैलाया जाएगा।

क्या कहा शर्मिष्ठा मुखर्जी ने?

शर्मिष्ठा मुखर्जी ने इस पूरे मामले पर बुधवार को ट्वीट कर अपनी नाराज़गी जाहिर की और अपने पिता को टैग कर इस घटना से सबक लेने की अपील भी की।

शर्मिष्ठा मुखर्जी ने ट्वीट में लिखा कि उन्हें उम्मीद है कि आज की इस घटना के बाद अब प्रणब मुखर्जी को भी इस बात का अच्छी तरह सबक ले लेंगे कि बीजेपी डर्टी ट्रिक्स डिपार्टमेंट किस तरह ऑपरेट करता है। खुद RSS को भी इस बात पर विश्वास नहीं कि आप उनके विचारों को अपने भाषण के जरिए बढ़ावा देने वाले हैं। आपके भाषण को भूला दिया जाएगा लेकिन तस्वीरें रहेंगी और उन्हें गलत बयानों के साथ फैलाया जाएगा।

एक दूसरे ट्वीट में शर्मिष्ठा मुखर्जी ने अपने पिता के लिए लिखा कि नागपुर जाकर आप BJP और RSS को झूठी खबरें प्लांट करने, अफवाहें फैलने की खुली छूट दे रहे हैं। आपके जाने से यह अफवाहें सच भी लग रही हैं और अभी तो यह सिर्फ शुरुआत है।

शर्मिष्ठा मुखर्जी बीजेपी जॉइन कर रही हैं, बुधवार को यह खबर वायरल हुई थी। इस खबर में पश्चिम बंगाल से चुनाव लड़ने की संभावना भी जताई गई थी। लेकिन शर्मिष्ठा मुखर्जी ने रानीखेत के पहाड़ो से ट्वीट कर इस ख़बर को भी खारिज किया।  वहां से उन्होंने ट्वीट किया- पहाड़ों पर खूबसूरत शाम का आनंद ले रही थी, तभी अचानक एक न्यूज आई कि मैं BJP जॉइन कर रही हूं। मैं राजनीति में आई इसलिए हूं, क्योंकि मैं कांग्रेस में विश्वास करती हूं। पार्टी छोड़ने से बेहतर होगा कि राजनीति ही छोड़ दूं।

अधिक जानकारी

ये पूरा मामला तब गरमाया जब नागपुर में प्रणब मुखर्जी RSS के तृतीय शिक्षा वर्ग कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होने के लिए पहुंचे। तृतीय शिक्षा वर्ग संघ के प्रचारक बनाने की प्रक्रिया का सबसे उच्च ट्रेनिंग प्रोग्राम है। संघ प्रचारक बनना है तो तृतीय शिक्षा वर्ग में प्रशिक्षण लेना ही पड़ता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी तृतीय शिक्षा वर्ग में हिस्सा लिया था। इस कार्यक्रम का ध्येय वाक्य 'मै संघ हूं, संघ मेरा है' है।


कमेंट करें