नेशनल

BHU अस्पताल में बड़ी लापरवाही, मरीजों को दी गई इंडस्‍ट्र‍ियल गैस

ललिता सेन, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
109
| अक्टूबर 5 , 2017 , 12:09 IST | वाराणसी

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के अस्पताल में अनीस्थिसिया के लिए इंडस्ट्रियल गैस इस्तेमाल करने का मामला सामने आया है। जांच के दौरान पता चला है कि बीएचयू के अस्पताल में मरीजों को बेहोश करने के लिए इंडस्ट्रियल गैस का इस्तेमाल किया जाता था। दरअसल, इस अस्पताल के सर्जरी वार्ड में तीन दिनों के अंदर अचानक मरीजों की बढ़ रही मरने की संख्या की जांच कर रही केंद्र और राज्य सरकार की टीम ने यह बड़ी लापरवाही पकड़ी है। जांच दल ने पाया कि अस्पताल में दवाई के लिए मंजूर ना की गई इंडस्ट्रियल गैस का इस्तेमाल किया जा रहा था। इस गैस का इस्तेमाल सर्जरी कराने वाले मरीजों को बेहोश करने के लिए किया जा रहा था।

बता दें कि, 6 जून से 8 जून के बीच बीएचयू के अस्पताल में कम से कम 14 मरीजों की मौत हुई थी, जो अस्पताल में सर्जरी के लिए भर्ती हुए थे। मरीजों की मौत के बाद इलाहाबाद हाई कोर्ट ने मामले की जांच के आदेश दिए थे।

BHU HOSPITAL

जांच रिपोर्ट से पता चला कि अस्पताल में नॉन-फार्मास्यूटिकल (गैर-चिकित्सकीय) नाइट्रस आक्साइड का प्रयोग किया जा रहा था। ये गैस उन गैसों की श्रेणी में नहीं आती जिनका इस्तेमाल चिकित्सा के लिए किया जाता है। 18 जुलाई को दी गई इस रिपोर्ट को उत्तर प्रदेश फूड सेफ्टी एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने तैयार किया है। हालांकि जांच में ये नहीं कहा गया है कि क्या सामान्य से ज्याद संख्या में हुई मौतों के लिए नाइट्रस आक्साइड (एन2ओ) जिम्मेदार है या नहीं?

रिपोर्ट के मुताबिक अस्पताल के लिए गैस सप्लाइ करने वाली इलाहाबाद स्थित फर्म परेरहाट इंडस्ट्रियल एंटरप्राइजेज के पास किसी मेडिकल गैस की आपूर्ति का ही लाइसेंस नहीं है।

देखें वीडियो


कमेंट करें