ख़ास रिपोर्ट

आज ही के दिन जन्मा था दुनिया जीतने वाला 'सिकंदर महान'

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
259
| जुलाई 20 , 2017 , 14:54 IST | नई दिल्ली

जीतने का सपना तो सभी देखते हैं, लेकिन जीत सबके नसीब में नहीं होती। जीतता वही है जो अपने सपनों को जीना जानता है। लेकिन बात जब दुनिया जीतने की हो तो लोगों के सपने भी जवाब दे जातें हैं, क्योंकि शायद ही कोई शख्स आपने देखा हो जिसने सपने में भी पूरी दुनिया को अपनी मुट्ठी में करने की सोची है। लेकिन इतिहास में ऐसा शख्स है जिसने पूरी दुनिया पर अपना परचम लहराया। हम बात कर रहे हैं सिकंदर की। महान सिकंदर का जन्म आज ही के दिन ईसा पूर्व 356 में हुआ था।

1

सिकंदर का जन्म 20 जुलाई को 356 ईसा पूर्व में युनान में हुआ था। 16 साल की उम्र तक उसने महान दार्शनिक अरस्तू से ज्ञान प्राप्त किया। आगे चलकर वो मेसेडोनिया को ग्रीक प्रशासक बना। सिकंदर ने अपने पिता फिलिप द्वीतीय की हत्या के बाद मैसेडोनिया की गद्दी संभाली थी और विरासत में उन्हें एक मजबूत साम्राज्य और अनुभवी सेना मिली थी।

3

इतिहास में सिकंदर सबसे कुशल और यशस्वी सोनापति माना जाता है। सिकंदर ने सेना के विस्तार की अपनी पिता की योजनाओं को आगे बढ़ाया. ईसा पूर्व 334 में सिकंदर ने पहला धावा बोला और फिर अगले 10 सालों तक चले विजय अभियान के पूरा होने तक उसकी सेना भारत तक जा पहुंची थी। अपनी मृत्यु तक सिकंदर उस तमाम राज्यों को जीत चुका था जिसके बारे में प्राचीन ग्रीक के लोगों को पता था। इसलिए सिंकदर को विश्वविजेता कहा जाता है।

5

आज भी दुनिया भर की सेनाएं सिकंदर की रणनीतियों और तौर तरीकों का इस्तेमाल करती हैं। आपको जान कर हैरानी होगी की दुनिया जीतने वाले महान सिकंदर की महज 32 साल की उम्र में ही बीमारी से मौत हो गई थी।

2

326 ईसा पूर्व में सिकन्दर ने भारत पर आक्रमण किया और पंजाब में सिन्धु नदी के तट तक जा पहुंचा। उसने भारत का सीमांत प्रदेश जित लिया था। परन्तु भारतीय राजा पुरु (पोरस) ने उसका बड़े साहस और शौर्य से सामना किया तथा आगे नहीं बढ़ने दिया। तभी सिकन्दर को फ़ारस के विद्रोह का समाचार मिला और वह उसे दबाने के लिए वापस चल दिया।

4

वह 323 ई.पू. में बेबीलोन पहुंचा और वहां पर उसे भीषण ज्वर ने जकड़ लिया। उस रोग का कोई इलाज नहीं था। अत:33 वर्ष की आयु में वहीं सिकन्दर की मृत्यु हो गई। केवल 10 वर्ष की अवधि में इस अपूर्व योध्दा ने अपने छोटे से राज्य का विस्तार कर एक विशाल साम्राज्य स्थापित कर लिया था। जिसमें यूनान और भारत के मध्य का सारा भूभाग सम्मिलित था।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर हैं

कमेंट करें