नेशनल

कालेधन का 'मक्का' बन गया था भारत!, 10 साल में हुआ करीब 1000 अरब डॉलर का आवागमन

icon कुलदीप सिंह | 0
192
| मई 3 , 2017 , 20:01 IST | नई दिल्ली

भारत में 2005 से 2014 तक दस साल की अवधि में 770 अरब डॉलर :49,28,000 करोड़ रपये: का कालाधन आया।

अमेरिका के ‘थिंक टैंक’ ग्लोबल फाइनेंसियल इंटेग्रिटी :जीएफआई: ने अपनी ताजा रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। हालांकि, रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस दौरान देश से 165 अरब डॉलर :10,56,000 करोड़ रपये: की अवैध राशि देश से बाहर भी निकली है।

इसमें कहा गया है कि अकेले 2014 में ही 101 अरब डॉलर का कालाधन देश में पहुंचा है जबकि 23 अरब डॉलर का धन बाहर निकला। रिपोर्ट के अनुसार

वर्ष 2014 के दौरान 1,000 अरब डॉलर की अवैध राशि का विकासशील और उभरती अर्थव्यवस्थाओं में आवागमन हुआ।

वर्ष 2005-2014 में विकासशील देशों में अवैध वित्तीय प्रवाह का आवागमन’ नामक यह रिपोर्ट ऐसी पहली रिपोर्ट है जिसमें अवैध धन के आने और निकलने दोनों के बारे में अध्ययन किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 2005-2014 के दौरान कुल अवैध बाह्य वित्तीय प्रवाह भारत के कुल व्यापार 5,500.74 अरब डालर का तीन प्रतिशत यानी करीब 165 अरब डॉलर रहा।

 

इसमें सुझाव दिया गया है कि सरकारों को कालेधन की निगरानी के लिये सभी तरह की वैध इकाइयों के बारे में सत्यापित लाभार्थी स्वामित्व सूचना रखने वाली सार्वजनिक रजिस्ट्री स्थापित करनी चाहिये। रिपोर्ट में कहा गया है,

सभी बैंकों को उनके वित्तीय संस्थान में रखे गये खातों के सही लाभार्थी स्वामित्व की जानकारी होनी चाहिये।

Black-Money


author
कुलदीप सिंह

लेखक www.Khabarnwi.com के Editorial Head हैं और News World India समाचार चैनल में executive editor हैं. आप उन्हें twitter पर @kuldeeps1980 पर फॉलो कर सकते हैं.

कमेंट करें