बिज़नेस

GST से टैक्स पेयर्स बढ़े लेकिन टैक्स नहीं, इकोनॉमिक सर्वे की 15 बड़ी बातें

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
215
| जनवरी 29 , 2018 , 15:39 IST

सोमवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2018 का आर्थिक सर्वे संसद में पेश किया। इस आर्थिक सर्वे में जीएसटी के असर से लेकर भारतीयों में लड़कों की चाहत से जुड़े 10 नए आर्थिक तथ्यों की ओर ध्यान आकर्षित किया गया है। गौरतलब है कि हिंदी और अंग्रेजी में पेश किए गए इस सर्वे में भविष्य में महंगाई बढ़ने की आशंका जताई गई है।

आइए जानते हैं देश की इकॉनमी के 15 नए आर्थिक तथ्य

1. जीएसटी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को एक नया आयाम दिया है। इसके नए आंकड़े उभरकर सामने आए हैं। अप्रत्यक्ष कर देनेवालों की संख्या में 50 फीसदी का इजाफा हुआ है

2. नवंबर 2016 से लेकर अब तक व्यक्तिगत आयकर रिटर्न दाखिल करनेवालों की संख्या लगभग 18 लाख तक बढ़ी है

3. भारत का फॉर्मल सेक्टर, विशेषकर फॉर्मल नॉन-ऐग्रिकल्चर पे-रोल को मौजूदा अनुमान की तुलना में बहुत अधिक पाया गया है

4. इकोनॉमिक सर्वे 2018 में देश की जीडीपी ग्रोथ 2018-19 में 7 से 7.75 परसेंट रहने का अनुमान है

5. सर्वेक्षण के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष 2017-18 में देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर 6.75 फीसदी रहने का अनुमान है

6.नोटबंदी और जीएसटी की वजह से टैक्स के दायरे में 18 लाख नए टैक्स पेयर्स आए

7.लेकिन टैक्स के दायरे में 18 लाख नए टैक्स पेयर्स के बावजूद सरकार की कमाई ज्यादा नहीं बढ़ेगी क्योंकि ज्यादातर मामलों में औसत आय 250,000 रुपए

Also Read: पेश हुआ आर्थिक सर्वे, GDP 7.5% रहने की उम्मीद,महंगाई देगी झटका

8. नवंबर 2016 से नवंबर 2017 के बीच 1 करोड़ नए लोगों ने रिटर्न भरा, जबकि इसके पहले के 6 सालों में सिर्फ 62 लाख नए टैक्स पेयर्स जुड़े थे

9. जीएसटी और नोटबंदी से नकदी पर निर्भर कारोबार पर बुरा असर पड़ा. नोटबंदी से मांग घटी और प्रोडक्शन में भी गिरावट आई। लेकिन 2017 जुलाई तक इसका असर काफी कम हो गया

10. नोटबंदी के बाद ग्रामीण इलाकों में मांग में जो कमी आई थी उसमें सुधार

11. नोटबंदी से कारोबार में नकदी का लेन-देन करीब 2.8 लाख करोड़ रुपए कम हुआ है। जो कि जीडीपी का 1.8 परसेंट है

12. इसी तरह नोटबंदी से सिस्टम में ऊंची वैल्यू के नोट 3.8 लाख करोड़ रुपए कम हो गए हैं जो जीडीपी का 2.5 परसेंट है

13. इकोनॉमिक सर्वे के मुताबिक, सर्विस सेक्टर की ग्रोथ 8.3 परसेंट रहने का अनुमान, वहीं FY 19 में वित्तीय घाटे जीडीपी के 3 परसेंट पर रहने की उम्मीद


कमेंट करें