बिज़नेस

ये हैं 84 साल के 'जासूस ब्योमकेश बख्शी', अब 11400 करोड़ के PNB घोटाले की करेंगे जांच

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
551
| फरवरी 26 , 2018 , 18:03 IST

पंजाब नेशनल बैंक में हुए 11400 करोड़ के घोटाले के बाद बैंकिंग सेक्टर के काम-काज पर सवाल उठ रहे हैं। बैंक को चूना लगाने वाले नीरव मोदी और मेहुल चौकसी विदेश जा चुके हैं। इस बीच केन्द्रीय रिजर्व बैंक ने घोटाले की जांच के लिए 84 साल के सीए येज्दी हिरजी मालेगम की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई है। मालेगम की अध्यक्षता में बनी कमेटी फ्रॉम कैसे और किन हालात में किए गए इसकी जांच करेगी। इसके अलावा येज्दी हिरजी मालेगम बैंकों के एनपीए को भी देखेंगे।

आपको बता दें कि 2016  तक आरबीआई बोर्ड के सदस्य रहे मालेगम ने सबसे लंबे समय तक केंद्रीय बैंक को अपनी सेवाएं दी हैं। बैंक के सेंट्रल बोर्ड से निकलने के बाद वह भारतीय रिजर्व बैंक नोट मुद्रण लिमिटेड के डायरेक्टर रहे हैं।

1519319757-1659

इकोनॉमिक्स टाइम्स के मुताबिक आरबीआई के पूर्व गवर्नर एम नरसिम्हन ने एक बार कहा था, 'जब भी देश के सामने कोई बड़ी समस्या आती है तो उसके जवाब में कमेटी बनाई जाती है। आरबीआई भी इससे अछूता नहीं है, लेकिन यहां थोड़ा अंतर है। जब भी बैंकिंग में कोई बड़ा संकट आता है तो आरबीआई मालेगम की अध्यक्षता में कमेटी बनाता है।'

उनके साथ काम कर चुके लोगों का कहना है कि मालेगम आरबीआई की कार्यप्रणाली में ट्रांसपरेंसी लाने के समर्थक नहीं रहे हैं।  जब वह रिजर्व बैंक के फाइनेंशियल सेक्टर लेजिस्लेटिव रिफॉर्म्स कमीशन के नॉमिनी थे, तब उन्होंने आरबीई के कैपिटल पर कंट्रोल का बचाव करते हुए नोट लिखा था।

आरबीआई के लिए मालेगम भले ही 'ब्योमकेश बख्शी' रहे हों लेकिन क्या पीएनबी घोटाले में वह उम्मीदों पर खरे उतर पाएंगे? आपको बता दें कि ब्योमकेश बख्शी आजादी के समय में एक बड़े जासूस थे।

 


कमेंट करें