नेशनल

जस्टिस कर्णन ने CJI खेहर सहित सात जजों को अपने सामने पेश होने का आदेश दिया

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
119
| अप्रैल 14 , 2017 , 09:42 IST | कोलकाता

कलकत्ता हाई कोर्ट के जस्टिस सी. एस. कर्णन ने अपने खिलाफ अवमानना नोटिस जारी करने वाले चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) जे.एस. खेहर और सुप्रीम कोर्ट के 6 जजों को 28 अप्रैल को उनकी आवासीय अदालत में पेश होने को कहा है।

Karnan 3

जस्टिस कर्णन ने गुरुवार को दावा किया है कि 7 जजों की बेंच ने बेवजह, जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण इरादे से उनका अपमान किया। उन्होंने 9 पेज के अपने 'आदेश' की कॉपी पत्रकारों में बांटा।

जजों ने SC-ST ऐक्ट का किया उल्लंघन

जस्टिस कर्णन ने कहा कि जजों को उनके द्वारा अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के उल्लंघन के आरोपों का बचाव करने को कहा गया है। वह इस बात पर जोर दे रहे हैं कि दलित होने के कारण उनके साथ भेदभाव किया जा रहा है।

हालांकि अभी न्यायाधीश कर्णन द्वारा जारी किए गए आदेश की वैधानिकता स्पष्ट नहीं है, क्योंकि सर्वोच्च न्यायालय ने न्यायाधीश कर्णन से उनकी प्रशासनिक एवं न्यायिक शक्तियां छीन ली हैं।

इन सातों न्यायाधीशों ने स्व-संज्ञान से फरवरी में न्यायाधीश कर्णन के खिलाफ अदालत की अवमानना का आदेश जारी किया था। न्यायाधीश कर्णन के खिलाफ अवमानना का यह आदेश जनवरी में 20 न्यायाधीशों को भ्रष्ट बताते हुए उनके खिलाफ जांच की मांग करने के बाद जारी किया गया था। 

जस्टिस कर्णन के खिलाफ जारी है जमानती वारंट

शीर्ष अदालत ने न्यायाधीश कर्णन के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया था, जिसके बाद न्यायाधीश कर्णन 31 मार्च को शीर्ष अदालत के सामने पेश भी हुए थे। शीर्ष अदालत की सात न्यायाधीशों की पीठ ने न्यायाधीश कर्णन से उनके खिलाफ जारी अवमानना के आदेश पर चार सप्ताह के अंदर अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए कहा था। न्यायाधीश कर्णन ने हालांकि शीर्ष अदालत के इस नोटिस का जवाब देने से इनकार कर दिया था।

Karnan 2