नेशनल

हाईकोर्ट में योगी सरकार ने कहा, आरोपी विधायक सेंगर के खिलाफ मेरे पास सबूत नहीं

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
946
| अप्रैल 12 , 2018 , 17:21 IST

उन्नाव गैंगरेप के मामले में हाईकोर्ट में अपना पक्ष रखते हुए योगी सरकार ने कहा कि आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की गिरफ्तारी के लिए सबूत चाहिए, जिन्हें जुटाने के लिए थोड़ा वक्त चाहिए। एसआईटी की विवेचना जारी रहेगी, लेकिन विधायक की गिरफ़्तारी पर फ़ैसला अब सीबीआई लेगी। इस मामले में कोर्ट कल अपना फैसला सुनायेगा।

इससे पहले कोर्ट ने योगी सरकार से पूछा था कि आप स्पष्ट बतायें कि रेप के आरोपी विधायक को आप गिरफ्तार करेंगे या नहीं। कोर्ट ने सरकार को यह बताने के लिए एक घंटे का समय दिया था,जिसके बाद सरकार की ओर से यह जवाब आया है।

इससे पहले आज प्रधान सचिव (गृह) अरविंद कुमार ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की और बताया कि यह केस सीबीआई को सौंप दिया गया है और सीबीआई ही यह तय करेगी कि विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को गिरफ्तार किया जाये या नहीं।

उन्नाव केस पर प्रतिक्रिया देते हुए महिला एवं बाल कल्याण मंत्री मेनका गांधी ने कहा कि केस सीबीआई के सुपुर्दे कर दिया गया है। जांच हो रही है और आवश्यक कार्रवाई भी की जायेगी। इस केस में न्याय अवश्य होगा।

डीजीपी के विधायक को माननीय बोलने पर आपत्ति हुई तो उन्होंने कहा कि जब तक दोष सिद्ध नहीं हो जाता, तब तक हर किसी को सम्मान का अधिकार है। विधायक बाहर रह कर किसी प्रकार पीड़ित और उसके परिवार को भयभीत न कर सकें, इसलिए परिवार को समुचित सुरक्षा दी गई है।

डीजीपी और प्रमुख सचिव गृह ने संयुक्त बयान में कहा कि चूंकि अब मामला सीबीआई को भेज दिया जाएगा। अब सीबीआई ही तय करेगी कि विधायक की गिरफ़्तारी की जानी है या नहीं। गुण-दोष के आधार पर वह फैसला लेने के लिए स्वतंत्र है।

इसे भी पढ़ें-: पूर्व गृह सचिव का खुलासा: गृह मंत्रालय में देखी जाती थी पोर्न फिल्में, पढ़ें पूरी खबर

डीजीपी ने विधायक को बचाने पर कहा कि पीड़िता के आरोप के आधार पर ही मुकदमा दर्ज किया गया है। साक्ष्य मिलने पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि भूमिका पर सवाल उठाने का कोई भी प्रश्न नहीं उठता है, हम लोग ईमानदारी से काम कर रहे हैं। किसी भी दोषी को बचाने की कोई मंशा नही है। तथ्यों और साक्ष्यों के आधार पर अब तक कार्रवाई हुई है। आगे भी साक्ष्यों के आधार पर कार्रवाई होगी।


कमेंट करें