इंटरनेशनल

कैटेलोनिया में हुआ जनमत संग्रह, 90 फीसदी लोग स्पेन से आजादी के पक्ष में

अर्चित गुप्ता | 0
91
| अक्टूबर 2 , 2017 , 13:09 IST | नई दिल्ली

स्पेन से अलग होने के लिए कैटेलोनिया राज्य लड़ाई लड़ रहा है। इसके लिए यहां के लोगों ने गांधीवादी तरीके से आंदोलन छेड़ रखा है। इसी बीच रविवार को पुलिस ने रेफरेंडम (जनमत संग्रह) रोकने के लिए लोगों पर लाठियां तक बरसाईं। जिसके कारण 337 लोग जख्मी हो गए। 9 लोगों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा है। हिंसा के बीच हुए जनमत संग्रह के बाद कैटेलोनिया प्रशासन ने घोषणा की कि जनमत संग्रह में भाग लेने वाले 90 फीसदी लोग स्पेन से अलग होना चाहते हैं। वहीं स्पेन का कहना है कि देश की संवैधानिक अदालत ने इस जनमत संग्रह को अवैध करार दिया है।

आपको बता दें कि इस जनमत संग्रह के दौरान स्पेनी पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो हुई जिसके चलते कई लोग घायल हुए  लेकिन प्रदर्शनकारियों ने डेमोक्रेटिक तरीके से अहिंसा की राह पकड़ी। पुलिस की हिंसा का जवाब फूल देकर दिया। लोगों ने कहा, "जब तक पुलिस की हिंसा जारी रहेगी, तब तक हम नहीं हटेंगे।" कैटेलोनिया के शीर्ष नेता कार्लस पुजिमोन्ट ने भी दावा किया है, 'अब कैटेलोनिया को स्वतंत्र देश के तौर पर अस्तित्व में आने का अधिकार मिल गया है। उन्होंने कहा है कि वह इस जनमत संग्रह के परिणाम को कैटेलोनिया की संसद में भेजेंगे।'

वहीं, स्पेन के प्रधानमंत्री मारियानो रहोई ने कहा है कि जनमत संग्रह हुआ ही नहीं है। उनका कहना है कि कैटेलोनिया के अधिकतर लोग स्पेन से अलग नहीं होना चाहते। आपको बता दें कि जनमत संग्रह में शामिल होने के लिए 53 लाख से ज्यादा लोगों को बुलाया गया था।  जनमत संग्रह के लिए मतपत्र पर केवल एक प्रश्न लिखा था, ‘क्या आप कैटालोनिया को स्पेन से अलग कर एक स्वतंत्र राष्ट्र बनाना चाहते हैं?’ इस संबंध में ‘हां’ और ‘नहीं’ की दो मतपेटियां थीं।


कमेंट करें