नेशनल

संसदीय समिति ने उठाया बोफोर्स मामला, हो सकती है फिर से जांच!

अनुराग गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
128
| जुलाई 14 , 2017 , 11:33 IST | नई दिल्ली

एक बार फिर बोफोर्स घोटाले को सुनवाई को लेकर उठी आवाज। बता दें कि संसदीय समिति के अधिकतर सदस्य चाहते हैं कि बोफोर्स मामले की सुनवाई दोबारा शुरू की जाए।

गुरुवार को ज्यादातर सदस्यों ने सीबीआई को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की बात कहीं। बोफोर्स की खरीददारी को लेकर अस्सी के दशक में जबर्दस्त राजनीतिक भूचाल देखने को मिला था। इतना ही नहीं इस मामले के चलते हुए साल 1989 में राजीव गांधी की सरकार सत्ता से बाहर हो गई।

15TH_CITY_PARLIAME_1144100f

बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट ने 2005 में इस मामले की सुनवाई बंद करने का आदेश दिया था। लोक लेखा समिति (पीएससी) से जुड़े रक्षा मामले की उप-समिति के सदस्यों ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा से सवाल किया कि 2005 में जब हाईकोर्ट ने बोफोर्स मामले की सुनवाई बंद कर दी थी तो सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा क्यों नहीं खटखटाया गया।

रक्षा मामले पर पीएसी की छह सदस्यीय टीम बोफोर्स मामले पर 1986 में सीएजी की रिपोर्ट के कुछ पहलुओं का पालन नहीं करने की जांच कर रही है। दो संसदीय सदस्यों ने यह नाम ना जाहिए करने की शर्त पर बताया कि कई सदस्यों ने इस मामले को दोबारा खोले जाने पर जोर दिया और कहा कि शीर्ष अदालत में नई दलील पेश की जानी चाहिए।

Artillery

गौरतलब है कि, सीबीआई साल 2005 में हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने पर विचार कर रही थी मगर तत्कालीन सरकार ने इसकी इजाजत नहीं दी।


कमेंट करें