नेशनल

चारा घोटाले में लालू को जेल भेजने वाले जज को खुद नहीं मिल रहा न्याय, नहीं सुन रहा कोई गुहार

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
1110
| जनवरी 14 , 2018 , 13:33 IST | नई दिल्ली

आरजेडी सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले में सज़ा सुनाने वाले जज शिवपाल सिंह खुद इंसाफ पाने के लिए सालों से भटक रहे हैं। सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह को सालों पुराने मामले में न्याय नहीं मिल रहा है। लालू प्रसाद यादव को उन्होंने भले ही साढ़े तीन साल की सज़ा सुना दी हो लेकिन खुद उन्हें इंसाफ के लिए प्रशासनिक अधिकारियों के चक्कर काटने पड़ रहे हैं।

दरअसल, सीबीआई जज शिवपाल सिंह उत्तर प्रदेश के जालौन जिले के शेखपुर खुर्द गांव के रहने वाले हैं। कुछ दिन पहले गांव में कुछ लोगों ने उनकी जमीन पर कब्जा कर लिया और उस पर खेती करने लगे। इस बात का विरोध करने पर कब्जा करने वालों ने शिवपाल सिंह के भाई सुरेन्द्रपाल सिंह के खिलाफ उल्टा केस दर्ज करा दिया।

ये भी पढ़ें: सजा के ऐलान के बाद बोले लालू, बीजेपी की राह पर चलने से अच्छा मौत !

Hhh

इतना ही नहीं कई साल पहले गांव में जज शिवपाल सिंह की जमीन पर बीचो-बीचो चक रोड निकाल दी गई। जज शिवपाल सिंह इस मामले में जिले से डीएम ने मिलकर न्याय की गुहार लगा चुके हैं लेकिन नतीजा कुछ भी नहीं निकला। जमीन पर किसी तरह की कार्रवाई न होता देख शिवपाल सिंह और उनका परिवार काफी परेशान है।

ये भी पढ़ें: जेल में लालू बनेंगे माली, कमाएंगे रोज 93 रूपये, जमानत के लिए HC जाएंगे RJD कार्यकर्ता

गौरतलब है कि ये मामला साल 2006 का है। शिवपाल के भाई का कहना है कि गांव के पूर्व प्रधान ने अपने कार्यकाल में बिना उनसे अनुमति लिए उनकी जमीन पर चक रोड निकाल दी थी। इसके बाद उस जमीन को हासिल करने के लिए जज शिवपाल सिंह और उनका परिवार आला-अधिकारियों के चक्कर काट रहा है। मीडिया में खबर आने के बाद जालौन के उप-जिलाधिकारी भैरपाल सिंह का कहना है कि उन्हें मामले की जानकारी नहीं थी। अब जबकि मामला उनके सामने आया है वो पूरे मामले में उचित कार्रवाई करेंगे।

Hhhh

आपको बता दें कि लालू प्रसाद यादव को सजा सुनाने के बाद सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह चर्चा में हैं। उन्होंने चारा घोटाले में लालू प्रसाद यादव को आईपीसी की धारा 120बी, 420, 467 और 477ए के तहत साढ़े तीन साल की कैद और पांच लाख रुपये जुर्माने की सज़ा सुनाई है। लालू द्वारा जुर्माना अदा न करने की स्थिति में सजा छह महीने और बढ़ जाएगी।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर हैं

कमेंट करें