नेशनल

ऑक्सीजन कंपनी के बकाया थे 63 लाख, हुई मासूमों की दर्दनाक मौत : गोरखपुर

अनुराग गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
237
| अगस्त 12 , 2017 , 10:58 IST | गोरखपुर

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के संसदीय क्षेत्र गोरखपुर में सरकारी अस्पताल में कथित तौर पर ऑक्सीजन की कमी की वजह से एक एक कर 30 मासूम बच्चों की मौत हो गई। ये घटना गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज की है, जहां मरने वालों में 13 बच्चे एनएनयू वार्ड और 17 इंसेफेलाइटिस वार्ड में भर्ती थे।

मिली जानकारी के मुताबिक ये मौतें लिक्विड ऑक्सिजन की कमी की वजह से हुई है, हालांकि योगी सरकार इससे इनकार कर रही है। बता दें कि अस्पताल में गुरुवार से ऑक्सीजन का प्रेशर लो था और ऑक्सीजन सिलिंडरों के जरिए किसी तरह से काम चलाया जा रहा था। आपूर्तिकर्ता कम्पनी के 63 लाख रुपये के बिल बकाया होने की वजह से कम्पनी ने ऑक्सीजन की सप्लाई रोक दी।

ऑक्सिजन आपूर्ति करने वाली फर्म ने 1 अगस्त को ही मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य को लेटर लिख कर इस बात की जानकारी दी थी कि अगर 63.65 लाख रुपये का भुगतान नही हुआ तो सप्लाई बाधित कर दी जाएगी और इसकी जवाबदारी संस्था की होगी।

Letter

खबरों के मुताबिक पिछले 5 दिनों में 60 बच्चों की मौत हो चुकी है। हालांकि अस्पताल प्रशासन ने ऑक्सीजन की कमी से इनकार किया है। जब मामले ने राजनीतिक रुख ले लिया तो सरकार की तरफ से बयान आया कि ऑक्सीजन की कमी के कारण किसी रोगी की मौत नहीं हुई है। इतना ही नहीं इस हादसे के बाद योगी आदित्यनाख ने खुद समीक्षा की और मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिये हैं।

गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में हुए हादसे के बाद विपक्ष ने सरकार पर सवाल खड़े कर दिए है। बता दें कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस हादसे का जिम्मेदार सरकार को ठहराया है और ट्वीट कर कहा कि कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए और 20-20 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाना चाहिए।

बसपा ने ट्वीट कर कहा कि, गोरखपुर के अस्पताल मे आक्सीजन की कमी से 30 बच्चो की मौत, योगी सरकार को बर्खास्त करके, स्वास्थ मंत्री सहित सभी स्टाफ को जेल भेजना चाहिए!

तो वहीं इस हादसे पर अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने दुख जताया और योगी सरकार को जिम्मेदार ठहराया। इतना ही नहीं बल्कि वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और यूपी कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर अस्पताल का दौरा करेंगे।


कमेंट करें