अभी-अभी

दलाई लामा को फंड देते हैं कम्युनिस्ट पार्टी  के अधिकारी: चीनी मीडिया का दावा

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
87
| मई 2 , 2017 , 13:57 IST | बीजिंग

दलाई लामा पर चीन की मीडिया की ओर से नया खुलासा हुआ है। इस खुलासे के मुताबिक, देश की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ने अपने कुछ अधिकारियों पर दलाई लामा के लिए फंडिग करने का आरोप लगाया है। पार्टी का कहना है कि दान के रूप में धन देकर दलाई लामा को वित्तीय सहायता दी जा रही है।

चीन के ग्‍लोबल टाइम्‍स में छपी रिपोर्ट के अनुसार,

एक सीनियर अनुशासन निरीक्षण अधिकारी ने 14वें दलाई लामा को कथित रूप से धन दान करने के लिए कुछ पार्टी अधिकारियों को यह कहकर उकसाया है कि इससे पार्टी की अलगाववाद के खिलाफ लड़ाई को कम किया जा सकता है।

तिब्‍बत में ‘अनुशासन देखरेख’ के प्रमुख एस वांग योंगजुन ने बताया कि कुछ पार्टी अधिकारियों ने महत्‍वपूर्ण राजनीतिक मामलों व देश के अलगवावाद विरोधी संघर्ष को नजरअंदाज किया है।

Dalai-lama-reuters_650x400_41476990948

हालांकि इस रिपोर्ट में उन अधिकारियों के नामों व पदों का उल्‍लेख नहीं किया गया है। 1959 में चीन से भारत चले जाने के बाद यह पहला मौका है जब दलाई लामा के साथ चीनी अधिकारियों के संबंधों का यहां की मीडिया ने खुलासा किया है।

पार्टी की पत्रिका में छपे एक आलेख में वांग ने लिखा है,

कुछ ने तो 14वें दलाई लामा को धन दान में दिया है ताकि वे अवैध भूमिगत संस्‍थानों से मिल जाएं। कुछ पार्टी सदस्‍य तो राजनीतिक अखंडता को बनाए रखने में असफल हो रहे हैं और पूरी तरह राजनीतिक अनुशासन को नजरअंदाज कर रहे हैं। इससे पार्टी की एकता प्रभावित होने के साथ अलगाववाद से लड़ाई की क्षमता भी कम हो रही है।

14वें दलाई लामा को चीन राजनीतिक निर्वासन के तौर पर देखता है जिन्‍होंने धर्म की आड़ में चीन से तिब्‍बत को अलग करने का प्रयास किया। हाल के वर्षों में 81 वर्षीय अपने नेता की वापसी की मांग करते हुए 120 से अधिक तिब्‍बतियों विशेषकर संन्‍यासियों ने आत्‍महत्‍या कर ली।

Photo

हाल के दलाई लामा के अरुणाचल प्रदेश दौरे से भारत और चीन के बीच खटास आयी है क्‍योंकि चीन इस क्षेत्र को दक्षिणी तिब्‍बत कहता है। इसके बाद चीन ने कूटनीतिक विरोध भी दर्ज कराया था और अरुणाचल में छह जगहों के नाम बदल दिए।


कमेंट करें