बिज़नेस

चीन ने Wanda Group के निवेश पर लगाया बैन, 10 बिलियन डॉलर के हरियाणा प्रोजेक्ट पर लगा ग्रहण

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
132
| जुलाई 19 , 2017 , 14:08 IST | नई दिल्ली

चीन के दूसरे सबसे अमीर शख्स, अरबपति वांग जिआंलिन की मुश्किलें बढ़ने वाली है। चीन की सरकार ने ने वांग जिआलिन की कंपनी वांडा ग्रुप के अन्य देशों में किए जाने वाले निवेश पर रोक लगा दी है। चीन सरकार द्वारा वांडा ग्रुप के ऑफशोर इंवेस्ट्मेंट पर रोक लगाए जाने के बाद कंपनी के हरियाणा के रियल एस्टेट प्रोजेक्ट पर ग्रहण लग गया है।

Wanda 2

10 बिलियन डॉलर की लागत से हरियाणा में बनने वाले इंडस्ट्रियल प्रोजेक्ट पर ग्रहण 

वांडा ग्रुप के हरियाणा प्रोजेक्ट पर ग्रहण लगने की एक और वजह है। दरअसल हरियाणा सरकार कंपनी से डील करने के एवज 26 प्रतिशत की शेयर मांग रही है जबकि कंपनी सिर्फ 9 फीसदी शेयर देने के लिए तैयार है। बता दें कि वांडा ग्रुप हरियाणा में 10 बिलियन डॉलर की लागत से रियस एस्टेट डेवलमेंट प्रोजेक्ट के तहत इंडस्ट्रियल पार्क और थीम पार्क बनाने की योजना पर काम कर रही थी।

वांडा ग्रुप इंटटरटेन इंडस्ट्री के ग्लोबल प्रोजेक्ट में कर चुकी थी निवेश

गौरतलब है चीन सरकार द्वारा वांडा ग्रुप द्वारा दूसरे देशों में किए जा रहे निवेश पर रोक लगने के बाद वांडा ग्रुप की कई महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट रुक सकती है। वांडा ग्रुप इंटरटेनमेट इंडस्ट्री के कई ग्लोबल प्रोजेक्ट में निवेश करने की योजना पर काम कर रही थी। ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक वांग जिआलिन की कंपनी वांडा ग्रुप कुल 6 प्रोजेक्ट में निवेश करने वाली थी जिसमें नॉड्रिक सिनेमा ग्रुप की होल्डिंग कंपनी AB को खरीदने के अलावा Carmike Cinemas Inc में निवेश करने की योजना शामिल है।

चीन ने वांडा को मिलने वाली सरकारी फंडिग पर लगाया बैन

चीन सरकार के फाइनेंस डिपार्टमेंट के मुताबिक इन प्रोजेक्ट में ऑफशोर इनवेस्टमेंट के नियमों की अवहेलना कर निवेश किए जा रहे थे। चीन सरकार ने वांडा ग्रुप के सभी इनवेस्टमेंट प्रोजेक्ट में तत्काल प्रभाव से सरकारी फंडिग पर रोक लगा दी है।

Wanda 3

बैंक भी वांडा ग्रुप को नहीं करेगी फाइनांस

दरअसल चीन और भारत के बीच बढ़ रहे तनाव के मद्देनजर भी इस बैन को देखा जा रहा है। राजनीतिक रुप से चीन में अभी भारत विरोधी रुख के कारण भी वांडा ग्रुप के दूसरे देशों के प्रोजेक्ट की फंडिग पर बैन लगाई गई है। सरकार ने चीन के सभी बैंकों को इसके मद्देनजर निर्देश जारी कर कहा है कि वांडा ग्रुप के किसी भी प्रोजेक्ट को फाइनांस की सुविधा नहीं दी जाए। इतना ही नहीं सरकार ने कंपनी के एसेट की बिक्री पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गई है। कंपनी के घरेलू योजनाओं के निवेश और बैंक फाइनांस पर भी रोक लगा दी गई है।

वांडा ग्रुप पर चीन सरकार द्वारा लगाए गए इस बैन के कारण कंपनी ने हॉलीवुड की मशहूर इंटरटेनमेंट कंपनी डिक क्लार्क प्रोडक्शन को खरीदने के लिए जो 1 बिलियन डॉलर लगाए थे, उसे भी वापस ले ली है।

 


कमेंट करें