नेशनल

चीन की भारत को खुलेआम धमकी, कहा- पहाड़ को हिलाना मुमकिन लेकिन हमारी सेना को नहीं

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
176
| जुलाई 24 , 2017 , 13:27 IST | बीजिंग

सीमा पर जारी विवाद से चीन पूरी तरह से बौखला गया है। चीन ने इस बार खुलेआम भारत को धमकी दी है वो भी युद्ध की। चीन का कहना है कि वह डोकलाम में अपनी सेना की संख्या बढ़ाएगा। ये भी कहा गया कि चीन किसी कीमत पर अपनी संप्रभुता और सुरक्षा की रक्षा करेगा। चीनी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि,

हमारी पहली मांग है कि भारत डोकलाम से पहले अपनी सेना हटाए, क्योंकि हल उसी के बाद निकल पाएगा बॉर्डर की शांति पर ही पूरे राष्ट्र की शांति टिकी हुई है।

चीनी रक्षा मंत्रीलय के प्रवक्ता वू कियान ने कहा,

अपनी संप्रभुता की रक्षा करने का हमारा संकल्प कभी नहीं डिगने वाला है। हम हर कीमत पर अपनी संप्रभुता और सुरक्षा के हितों की रक्षा करेंगे। इलाके में हालात को देखते हुए चीन की सेना ने कदम उठाए हैं। हम हालात को देखते हुए सेना की तैनाती बढ़ाएंगे।

वू कियान ने कहा आगे कहा,

मैं भारत को याद दिलाना चाहता हूं कि वो किसी तरह के भ्रम में न रहे। चीन की सेना का 90 साल का इतिहास हमारी क्षमता को साबित करती है। देश की रक्षा करने को लेकर हमारे विश्वास को कोई भी डिगा नहीं सकता। पहाड़ को हिलाना मुमकिन है लेकिन चीन की सेना को हिला पाना मुश्किल है।

आपको बता दें कि भारत और चीन के बीच विवाद 16 जून को शुरू हुआ था। चीन लगातार भारत को धमकी दे रहा है। ऐसे-ऐसे बयान दे रहा है जिससे साफ झलकता है कि वो भारत को उकसा रहा है। 27 जुलाई को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल चीन जा रहे हैं जहां वो ब्रिक्स देशों के एनएसए की मीटिंग में शामिल होंगे। कहा जा रहा है कि वहां चीन से डोकलाम विवाद पर चर्चा हो सकती है।

किस बात पर है विवाद? 

दरअसल, डोकलाम जिसे भूटान में डोलम कहते हैं। करीब 300 वर्ग किलोमीटर का ये इलाका चीन की चुंबी वैली से सटा हुआ है और सिक्किम के नाथुला दर्रे के करीब है। इसलिए इस इलाके को ट्राई जंक्शन के नाम भी जाना जाता है। ये डैगर यानी एक खंजर की तरह का भौगोलिक इलाका है, जो भारत के चिकन नेक यानी सिलिगुड़ी कॉरिडोर की तरफ जाता है। चीन की चुंबी वैली का यहां आखिरी शहर है याटूंग। चीन इसी याटूंग शहर से लेकर विवादित डोलम इलाके तक सड़क बनाना चाहता है।

इसी सड़क का पहले भूटान ने विरोध जताया और फिर भारतीय सेना ने। भारतीय सैनिकों की इस इलाके में मौजूदगी से चीन हड़बड़ा गया है। चीन को ये बर्दाश्त नहीं हो रहा कि जब विवाद चीन और भूटान के बीच है तो उसमें भारत सीधे तौर से दखलअंदाजी क्यों कर रहा है। 16 जून से भारत और चीन की सेना के बीच गतिरोध जारी है।


कमेंट करें