अभी-अभी

क्या युद्ध की तैयारी कर रहा है चीन? विशेषज्ञों ने भारत को दी जंग की चेतावनी

अमितेष युवराज सिंह, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
158
| जुलाई 3 , 2017 , 15:43 IST | बीजिंग

भारत और चीन की सीमा पर पिछले कई दिनों से तनाव की स्थिति बनी हुई है। सिक्किम में भारत ने 1962 के बाद पहली बार सेना की मौजूदगी बढ़ाई है। इस बीच चीन की तरफ से फिर भड़काऊ बयान दिया गया है। चीनी विशेषज्ञों ने मौजूदा संबंधों पर कहा है कि अपनी सीमाओं की सुरक्षा के लिए चीन भारत से युद्ध भी कर सकता है। दोनों देशों के बीच पिछले 3 हफ्ते से सिक्किम के डोकलाम इलाके में तनाव चल रहा है।

1962 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है कि चीन और भारत के सैनिक सीमा पर इतने लंबे समय से आमने-सामने हैं। चीन के सरकारी मीडिया और विचारकों का कहना है,

अगर दोनों देशों के बीच विवाद को सही तरीके से नहीं संभाला गया तो युद्ध संभव है।

154498283

दोनों देशों के बीच जम्मू-कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक 3,488 किलोमीटर की सीमा लगती है और सिक्किम में दोनों देशों की सीमा 220 किलोमीटर की लगती है। ग्लोबल टाइम्स में छपे एक लेख में कहा गया है,

भारत के साथ चल रहे गतिरोध को खत्म करने के लिये चीन अपनी सीमा की सुरक्षा के करने के लिये युद्ध तक कर सकता है।

रक्षा मंत्री अरुण जेटली के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए चीनी विशेषज्ञ वांग देहुआ ने कहा है, 'चीन भी अब 1962 की स्थिति से काफी अलग है।' चीन ने कहा था कि भारत को 1962 से सबक लेना चाहिये। जिसपर रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि भारत 1962 से काफी बदल चुका है।

वांग ने कहा,

1962 से भारत चीन से प्रतिस्पर्धा में है, क्योंकि दोनों देशों के बीच कई समानताएं हैं। उदाहरण के तौर पर दोनों की जनसंख्या काफी ज्यादा है।

La-fg-china-military-pla-q-and-a-20150902

अखबार का कहना है, '1962 में चीनी क्षेत्र पर भारतीय कब्जे के कारण लड़ाई हुई थी। जिसमें 722 चीनी सैनिक और 4,383 भारतीय सैनिकों मारे गए थे।' विशेषज्ञों ने दोनों पक्षों से मांग की है कि इस विवाद को बातचीत के माध्यम से सुलझाया जाए। चाओ गैनशांग ने कहा, 'दोनों पक्षों को विकास की तरफ ध्यान देना चाहिये न कि युद्ध की तरफ। दोनों देशों की लड़ाई से किसी तीसरे देश जैसे अमेरिका को फायदा हो सकता है। वांग ने भारत को सलाह दी कि चीन से अच्छे संबंध रखने से दोनों देशों को फायदा होगा। भारत को ये समझना चाहिये।

चाओ शंघाई इंटरनेशनल स्टडीज इंस्टीट्यूट में प्रोफेसर हैं। चीनी विशेषज्ञों ने माना है कि चीन द्वारा सीमा पर सैन्य तैयारी बढ़ाने के बाद भारत भी अपनी स्थिति मजबूत करने में लगा हुआ है।


कमेंट करें