नेशनल

पूर्व कोल सचिव एचसी गुप्ता की सजा के विरोध में लखनऊ की सड़कों पर निकला मार्च

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 3
275
| जून 11 , 2017 , 19:07 IST | लखनऊ

प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ बढ़ती साजिश के विरोध में लखनऊ में समाज के जाने-माने प्रतिनिधियों ने जन-जागृति मार्च का आयोजन किया। इस मार्च के जरिये पूर्व आईएएस अधिकारियों हरीशचंद्र गुप्ता, केएस क्रोफा और केसी समारिया को दोषमुक्त करने की मांग उठाई गई और प्रशासनिक तंत्र पर कसते सीबीआई के शिकंजे पर मार्च में शामिल लोगों ने सवाल भी उठाए।

WhatsApp Image 2017-06-11 at 3.54.56 PM

गौरतलब है कि कमल स्पॉन्ज को कोल ब्लॉक आवंटन के मामले में पिछले दिनों पूर्व कोल सेक्रेटरी एच सी गुप्ता, पूर्व ज्वाइंट सेक्रेटरी के एस क्रोफा और तब के निदेशक के सी समारिया को हुई सजा के मुद्दे पर जन जागृति फोरम के लोग जब सड़कों पर उतरे तो उनके पास सवालों की झड़ी थी। विरोध मार्च में शामिल लोगों ने कई नारे भी लगाए।

WhatsApp Image 2017-06-11 at 3.54.59 PM

न ली रिश्वत, न की तरफदारी, फिर IAS अधिकारियों पर क्यों है दोधारी

मार्च में शामिल पूर्व अधिकारी संघ के पदाघिकारियों, जन जागृति फोरम के कार्यकर्ताओं ने पूर्व कोल सचिव हरीशचंद्र गुप्ता, क्रोफा और समारिया को सजा देने पर सवाल उठाते कहा कि हरीश चंद्र गुप्ता पर न तो रिश्वत लेने का कोई सबूत है और न ही किसी के तरफदारी करने का तो फिर सजा क्यों। मार्च में शामिल लोगों ने CBI पर भी सवाल उठाए।

WhatsApp Image 2017-06-11 at 3.54.58 PM

सीबीआई के पूर्व निदेशक रणजीत सिन्हा, अनिल सिन्हा एवं एपी सिंह की भूमिका पर सवाल उठाते हुए मार्च में भाग लेने वाले नागरिकों ने कहा कि जिस जांच एजेंसी के कर्ता-धर्ता ही सवालों के घेरे में हैं तो उस की साख ही कैसी।
मार्च में शामिल लोगों ने इन अधिकारियों को दोषमुक्त करने और सुप्रीम कोर्ट से सीबीआई पर अंकुश लगाने की मांग बुलंद की।

देखिए वीडियो


कमेंट करें