नेशनल

नीतीश ने की प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण लागू करने की वकालत

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
102
| नवंबर 6 , 2017 , 15:18 IST | पटना

लोकसंवाद कार्यक्रम के बाद प्रेस कॉन्फ्रेन्स कर बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने निजी क्षेत्रों में भी आरक्षण दिये जाने की वकालत की। सोमवार को राजधानी पटना में उन्‍होंने कहा कि मेरी राय है कि निजी क्षेत्र में भी आरक्षण होना चाहिए। इसके साथ ही उन्‍होंने इस पर राष्ट्रीय स्तर पर बहस किए जाने की बात भी कही।

वहीं नीतीश कुमार की इस मांग पर बीजेपी सांसद हुकुमदेव नारायण का भी साथ मिलता दिख रहा है। नारायण से जब इस बारे में प्रतिक्रिया मांगी गई तो उन्होंने कहा, 'यह मुद्दा उठाने के लिए मैं नीतीश कुमार को बधाई देता हूं। हां यह सही मांग हैं, राष्ट्रीय स्तर पर इस पर जरूर मंथन किया जाना चाहिए।'

बता दें कि नीतीश सरकार ने बुधवार को अपने मंत्रिमंडल की बैठक में आउटसोर्सिंग के तहत प्रदान ओैर प्राप्त की जाने वाली सेवाओं में आरक्षण लागू करने की मंजूरी दी। अब तक इन नियुक्तियों में आरक्षण लागू नहीं होता था। ऐसे में बिहार इस तरह देश का पहला राज्य बन गया।

कैबिनेट बैठक के बाद पत्रकारों को संबोधित करते हुए मंत्रिमंडल सचिवालय समन्वय विभाग के प्रधानसचिव ब्रजेश महरोत्रा ने यह जानकारी देते हुए बताया कि सरकारी स्तर पर की जाने वाली बहाली में आरक्षण के जो प्रावधान लागू हैं, अब आउट सोर्सिंग के तहत प्रदान की जाने वाली सेवाओं में भी उसका पालन होगा।

नीतीश कुमार ने कहा कि रिजर्वेशन एक्ट को ध्यान में रखकर आउटसोर्सिंग में रिजर्वेशन लागू करने का फैसला किया गया है। अगर किसी कर्मचारियों को सरकारी फंड से सैलरी दी जा रही है तो उसमें आरक्षण लागू करना एक्ट के मुताबिक है, इसमें गलत क्या है? मैं व्यक्तिगत तौर पर निजी क्षेत्र में भी आरक्षण लागू करने का पक्षधर हूं लेकिन अभी यह बहस का मुद्दा है और संसद से पास नहीं हुआ है।

उन्होंने कहा कि जो लोग आरक्षण का विरोध कर रहे हैं उनके पास बुनियादी जानकारी नहीं है। ऐसे लोग बुनियादी चीजों को बगैर समझे ही बयानबाजी कर रहे हैं।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जदयू-राजद के विवादों का जवाब देते हुए कहा कि लालू यादव मेरी समाधि राजगीर में बनवाने की बात कह रहे हैं, इससे घटिया बात और क्या हो सकती है। मैंने अपने 47 साल के राजनीतिक जीवन में कभी इतनी घटिया बात नहीं की और ना करूंगा। दरअसल, आदमी जब परेशान होता है, सत्ता से बंचित होता है तो ऐसी बात बोलता है।

नीतीश कुमार ने कहा कि मुझे तो खुशी है कि मेरी समाधि राजगीर में बने, राजगीर को तो पुण्य स्थली कहते हैं और मेरी समाधि यहां बने, इससे अच्छी बात क्या हो सकती है? नीतीश कुमार ने कहा कि एेसे लोगों के साथ गठबंधन तोड़कर मुझे खुशी हो रही है।


कमेंट करें