नेशनल

यूपी की सड़कों पर दौड़ेगा चलता-फिरता ICU, हर जिले को मिली 2-2 एंबुलेंस की सौगात

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
149
| अप्रैल 13 , 2017 , 18:26 IST | लखनऊ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को राज्य की पूर्ववर्ती अखिलेश यादव सरकार पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी या भाजपा को श्रेय मिलने की आशंका की वजह से कल्याणकारी योजनाओं के लिये केन्द्र से धन नहीं लेने का आरोप लगाया।

योगी ने अपने सरकारी आवास पर जीवन रक्षक उपकरणों से सुसज्जित एम्बुलेंस सेवा की शुरुआत के मौके पर केन्द्र की मोदी सरकार का जिक्र करते हुए कहा,

लोकतंत्र में जनता द्वारा चुनी गयी सरकार जनता के प्रति जवाबदेह हो, इसका उदाहरण हम सबके सामने हैं। केन्द्र की सरकार उत्तर प्रदेश के लिये धन देना चाहती थी, लेकिन राज्य सरकार लेना नहीं चाहती थी कि कहीं इसका श्रेय मोदी जी या भाजपा को ना मिल जाए। केवल इसलिये प्रदेश की 22 करोड़ की जनता को वंचित रखा गया।

उन्होंने कहा,

केन्द्र और राज्य दोनों ही सरकारों को मिलकर जनता की सेवा करनी होती है। जहां भी जनहित, लोक कल्याण की बात हो, तो मतभेदों से उपर उठकर बात करनी चाहिये, मगर पिछली सरकार में यह नहीं हो पाया।

Yogi-Cabinet

योगी ने स्पष्ट किया कि उनकी सरकार किसानों की कर्जमाफी की भरपाई का भार जनता पर नहीं डालेगी। उनकी सरकार फुजूलखर्ची और चोरी रोककर एक साल में इस खर्च की प्रतिपूर्ति कर लेगी। सरकार इसके लिये सारा प्रबन्ध कर चुकी है।

गुरुवार को शुरू की गयी एम्बुलेंस सेवा का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश जैसे स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव वाले राज्य में केन्द्र सरकार की मदद से ‘एडवांस लाइफ सपोर्ट वाली एम्बुलेंस’ मिले, तो उसके महत्व का आप सहज अनुमान लगा सकते हैं उन्होंने कहा ‘‘हम अभी 150 एम्बुलेंस दे रहे हैं। अभी 100 एम्बुलेंस और आएंगी।’’

58040642

मुख्यमंत्री ने कहा ‘‘ऐसी एम्बुलेंस लखनऊ, कानपुर, इलाहाबाद और गोरखपुर जैसे बड़े शहरों के अच्छे निजी अस्पतालों में हो सकती है लेकिन दूर-दराज के क्षेत्रों की बुरी स्थिति है। हमारे प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में चिकित्सकों की उपस्थिति नहीं हो पाती है। हमारा प्रयास है कि इन चिकित्सालयों की व्यवस्था को अच्छा बनाया जाए।’’ पूर्ववर्ती सपा सरकार के कार्यकाल में एम्बुलेंस सेवा के नाम के आगे समाजवादी शब्द जोड़े जाने की तरफ इशारा करते हुए योगी ने कहा कि हमने इसके साथ कोई अतिरिक्त शब्द नहीं जोड़ा है।

उन्होंने कहा कि अगर इस एम्बुलेंस में लगे जीवनरक्षक उपकरण में कोई खराबी होती है और मरीज को परेशानी होती है तो संचालक कम्पनी पर जुर्माने का प्रावधान है।


कमेंट करें