नेशनल

सिंहासन खाली करो कि जनता आती है... सम्पूर्ण क्रांति के जनक जयप्रकाश को नमन

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
704
| अक्टूबर 8 , 2017 , 14:28 IST

जयप्रकाश नारायण भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और राजनेता थे। उन्हें 1970 में इंदिरा गांधी के विरुद्ध विपक्ष का नेतृत्व करने के लिए जाना जाता है। वे समाज-सेवक थे, जिन्हें लोकनायक के नाम से भी जाना जाता है। 1998 में उन्हें भारत रत्न से सम्मनित किया गया।

शिक्षा:

पटना मे अपने विधार्थी जीवन में जयप्रकाश नारायण ने स्वतंत्रता संग्राम मे हिस्सा लिया। जयप्रकाश नारायण बिहार विधापीठ में शामिल हो गए, जिसे युवा प्रतिभाशाली युवाओं को प्रेरित करने के लिए डॉ. राजेन्द्र प्रसाद और सुप्रसिद्ध गांधीवादी डॉ. अनुग्रह नारायण सिन्हा, जो गांधी जी के एक निकट सहयोगी रहे और बाद मे बिहार के पहले उप मुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री रह चुके है द्वारा स्थापित किया गया था।

Jayaprakash Narayan 5

वे 1922 मे वे उच्च शिक्षा के लिए अमेरिका गए, जहाँ उन्होंने 1922-1929 के बीच कैलिफोर्निया विश्वविधालय-बरकली, विसकांसन विश्वविधालय में समाज-शास्त्र का अध्यन किया। पढ़ाई के महंगे खर्चे को वहन करने के लिए उन्होंने खेतों, कंपनियों, रेस्टोरेन्टों मे काम किया। वे मार्क्स के समाजवाद से प्रभावित हुए।

उन्होने एम.ए. की डिग्री हासिल की। उनकी माताजी की तबियत ठीक न होने की वजह से वे भारत वापस आ गए और पी.एच.डी पूरी न कर सके।

जानिये जयप्रकाश नारायण के जीवन से जुड़े हर पहलू को:

आप को बता दें कि जयप्रकाश नारायण मूल रूप से लोकतांत्रिक समाजवादी थे और व्यक्ति की स्वतंत्रता को सर्वोपरि मानते थे। वे भारत में ऐसी समाज व्यवस्था के समर्थक थे जो व्यक्तिगत स्वतंत्रता, मानसिक प्रतिष्ठा और लोककल्याण के आदर्शों के अनुरूप हो। 1974 में सम्पूर्ण क्रांति की शुरुआत की। अपना सपना पूरा करने के लिये जयप्रकाश ने ‘छात्र युवा संघर्ष वाहिनी की स्थापना कर अहिंसक रास्ते से भ्रष्टाचार के खिलाफ जन आंदोलन का नेतृत्व किया।

Feature jp

जेपी ने पांच जून, 1975 को पटना के गांधी मैदान में विशाल जनसमूह को संबोधित किया। यहीं उन्हें ‘लोकनायक‘ की उपाधि दी गई। इसके कुछ दिनों बाद ही दिल्ली के रामलीला मैदान में उनका ऐतिहासिक भाषण हुआ। इसके कुछ दिनों बाद इंदिरा गांधी ने देश में 25 जून 1975 को आपातकाल लगा दिया। सम्पूर्ण क्रांति के नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया।

Jp

स्मरण रहे कि दिल्ली के रामलीला मैदान में हुई जेपी की आम सभा ने पूरे देश को झकझोर दिया इस सभा में तब एक लाख लोग शामिल हुए थे। विरोध के चलते आखिर आपातकाल का अँधेरा छँटा और दो साल बाद इंदिरा गाँधी ने 1977 में आपातकाल हटा दिया। जेपी के नेतृत्व में जनता पार्टी का गठन हुआ। मोरारजी देसाई को देश का प्रधानमंत्री बनाया गया।

देश को नेतृत्व देने वाले जेपी की किडनियां खराब हो गई और शेष समय उन्हें डायलिसिस पर गुजारना पड़ा। 8 अक्टूबर 1979 को उनका निधन हो गया और देश ने लोकतंत्र का एक सजग प्रहरी खो दिया। जेपी को मरणोपरांत भारत रत्न से विभूषित किया गया।

7504b9128e27c137707d60b765565626_342_660


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर हैं

कमेंट करें