राजनीति

घृणा और नफरत का सरकारीकरण हुआ है, उसके पीछे प्रधानमंत्री का आशीर्वाद है: कांग्रेस

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1480
| जुलाई 9 , 2018 , 21:33 IST

कांग्रेस ने झारखंड में लिंचिंग के दोषियों को माला पहनाकर उनका कथित तौर पर स्वागत करने वाले केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा के इस्तीफे की मांग की और आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार में 'नफरत और हिंसा की राजनीति का सरकारीकरण' हुआ है। कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने यह भी सवाल किया कि देश के अलग-अलग हिस्सों में हुई लिंचिंग की हालिया घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह 'मौन' क्यों हैं? 

प्रमोद तिवारी ने मोदी सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि 'केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा की ओर से अभियुक्तों को माला पहनाना क्या इस बात का संदेश नहीं है कि भारत सरकार इस तरह के लोगों के साथ खड़ी है? सिन्हा ने जो किया है वह संविधान और कानून के खिलाफ है.' उन्होंने कहा, 'हमें उम्मीद थी कि जयंत सिन्हा ने जो कृत्य किया है उसको लिए उन्हें बर्खास्त किया जायेगा. इस मामले में उनको इस्तीफा देना चाहिए'। 

Jayant-sinha

उन्होंने दावा किया कि नफरत और हिंसा की राजनीति का सरकारीकरण हुआ है। प्रमोद तिवारी ने कहा, '2017 में लिंचिंग की 61 घटनाएं हुई हैं, ये घटनाएं उन्हीं राज्यों में हो रही हैं जहां बीजेपी और उसके सहयोगी दलों की सरकारें हैं'। उन्होंने सवाल किया कि प्रधानमंत्री इस मामले पर चुप क्यों हैं? इस पर मोदी जी की मन की बात क्यों नहीं आती? क्या उनके मौन से इन घटनाओं को बढ़ावा नहीं मिल रहा है? अमित शाह ने चुप्पी क्यों साध ली है?' 

हरियाणा के कुरुक्षेत्र से बीजेपी सांसद राजकुमार सैनी के एक कथित बयान का हवाला देते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, 'राजकुमार सैनी ने सच बोला है कि वर्तमान सरकार में देश के हालात बहुत खराब हैं। बीजेपी सांसद को यह लगता है कि इस सरकार में नीति और नीयत नहीं है। 

Untitled design (16)

तिवारी ने कहा, 'सैनी ने कहा है कि यही हालात रहे तो 90 फीसदी बीजेपी सांसद चुनाव हार जाएंगे, कुरुक्षेत्र से कही गयी बात सच साबित होती है और यह भी सच साबित होगी'।

कांग्रेस नेता ने प्रमोद तिवारी ने बागपत की जेल में बाबू बजरंगी की हत्या के संदर्भ में कानून-व्यवस्था की स्थिति को लेकर योगी सरकार पर निशाना साधा, उन्होंने कहा कि मारने वाला आपराधिक पृष्ठभूमि वाला है और मरने वाला भी था। लेकिन उच्च सुरक्षा वाली जेल में पिस्टल से हत्या की जा रही है, यह कानून-व्यवस्था की सच्चाई को बयां करता है.' उन्होंने सवाल किया कि क्या बीजेपी के राज्य में कोई ऐसी जगह है जो सुरक्षित बची है? उन्होने पूछा कि उच्च सुरक्षा वाली बागपत जेल में पिस्टल कहां से आयी, किसने लाने दिया?


कमेंट करें