लाइफस्टाइल

टूट रही है बंदिशों की दीवारें, समलैंगिकता को इन देशों में मिली कानूनी मान्यता

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
207
| जून 13 , 2017 , 14:12 IST | नई दिल्ली

समलैंगिकता दुनिया के हर कोने में प्रचलित हो रही है परंतु कोई भी धर्म या समाज इसे मान्यता नहीं दे पाया है। क्योंकि पुराने ज़माने में समाज या परिवार इस उद्देश्य को बनाए रखना चाहता था कि प्रजनन की प्रक्रिया आगे बढ़ती रहे।

इलाज, दवाएँ कम थी और शिशु मृत्यु दर आज के मुक़ाबले कई गुना ज़्यादा था। इसी वजह से हर समाज समलैंगिकता अथवा गर्भ रोकने या गर्भपात के ख़िलाफ़ था। एक समलैंगिक सम्बन्ध में क़ुदरती तौर पर संतान उत्पत्ति असम्भव है। इस वजह से समाज इसे मान्यता नहीं देता था । परंतु हर समाज, संस्कृति में समलैंगिकता के उल्लेख मिलते हैं।

Unnamed

आज सूरत बदल रही है। आज व्यक्तित्ववादी समाज का निर्माण हो रहा है। समाज से पहले ,अपनी ज़िंदगी अपने मुताबिक़ जीने का हक़ सबको है। इस बात का महत्व बढ़ा है ,जानिए किन देशो में इन्हें मान्यता मिली है और किस साल में।

नीदरलैंड(2000)
बेल्यिजम (2003)
कनाडा (2005)
स्पेन (2005)
साउथ अफ़्रीका (2006)
नॉर्वे (2009)
स्वीडन (2009)
अर्जेंटीना (2010)
आयस्लैंड (2010)
पुर्तगाल (2010)
डेनमार्क (2012)
ब्राज़ील (2013)
इंग्लैंड और वेल्स (2013)
फ़्रांस (2013)
न्यूज़ीलैंड (2013)
यूरग्वाई (2013)
लक्सम्बर्ग (2014)
स्कॉटलैंड (2014)
फ़िनलैंड: (मान्यता प्राप्ति 2015, लागू 2017)
आयरलैंड: (2015)
अमेरिका(2015)
कोलम्बिया (2016)

Unnamed (1)


कमेंट करें