नेशनल

दिल्ली: पटाखे बैन से 1 हजार करोड़ का नुकसान, फूटते हैं 50 लाख Kg पटाखे

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
132
| अक्टूबर 10 , 2017 , 12:41 IST | नई दिल्ली

दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर रोक से पटाखा कारोबारियों को झटका लगा है। इससे करीब एक हजार करोड़ रुपए की पटाखा बिक्री पर असर होगा। दिल्ली में पटाखा बिजनेस से जुड़े लोगों का कहना है कि उन्होंने होलसेल डिलर्स से पटाखे खरीद लिए थे। अब वो अपने नुकसान की भरपाई कैसे करेंगे।

दिवाली से 5 दिन पहले फूटते हैं रोजाना 10 लाख Kg पटाखे

एक अनुमान के मुताबिक, दिल्ली में 5 दिन के दिवाली सेलिब्रेशन में रोजाना 10 लाख किलो पटाखों का इस्तेमाल होता है। यानी दिवाली के दौरान पांच दिन में 50 लाख किग्रा पटाखे फोड़े जाते हैं। 12 सितंबर तक मौजूद आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में 50 लाख किलो पटाखों का स्टॉक था। यह ऑफिशियल डाटा है। इसमें गैरकानूनी तौर पर बिकने वाला स्टॉक शामिल नहीं है।

Fire 1

इसी साल अगस्त में सुप्रीम कोर्ट ने इस स्टॉक पर हैरानी जताते हुए कहा था, ‘दिल्ली में सेना से ज्यादा बारूद है। यह पूरे देश को तबाह कर सकता है।’

पटाखे का कारोबार

10 हजार करोड़ रुपए की पटाखा इंडस्ट्री से 8 लाख लोग जुड़े हैं

भारत में पटाखों का सालाना टर्नओवर 10 हजार करोड़ रु

इसमें चीनी पटाखों का कारोबार 1500 करोड़ रुपए का है

देश की पटाखा इंडस्ट्री चीन के बाद दूसरे नंबर पर

चीनी इंडस्ट्री 30 हजार करोड़ की है

85% पटाखा फैक्ट्री तमिलनाडु के शिवकाशी में हैं

यहां पटाखे के छोटे-बड़े 800 कारखाने हैं

इस इंडस्ट्री से करीब 3 लाख लोग जुड़े हुए हैं

देश की करीब 500 इंडस्ट्री के 5 लाख लोग भी इस पर निर्भर हैं

Patakha

पटाखे का असर, कितना फैलता है प्रदूषण

40 सिगरेट जितना धुआं लोगों के शरीर में जाता है दिवाली पर

दिवाली पर मेट्रो शहरों में वायु पॉल्युशन 60 गुना तक बढ़ जाता है

एक शख्स के शरीर में 40 सिगरेट जितना धुआं चला जाता है

इससे अस्थमा, हार्ट की बीमारियां और कैंसर का खतरा बढ़ जाता है

बच्चों के लंग्स के डेवलपमेंट में अड़चन आ सकती है।

एसोचैम के मुताबिक दिवाली में आतिशबाजी के खिलाफ चलाई जा रही मुहिम से 25% बिक्री में कमी आई है। इसके बावजूद पिछले पांच सालों से पटाखों की बिक्री देश में 10 फीसदी की दर से बढ़ रही है। ब्रिटेन, न्यूजीलैंड, नार्वे, ऑस्ट्रेलिया, नीदरलैंड्स, स्वीडन, फिनलैंड, आइलैंड, स्विट्जरलैंड और फ्रांस में पटाखे बिक्री और खरीदने पर कड़े नियम हैं।

5 दिन तक रहा था धुआं, 3 साल में पॉल्युशनसबसे ज्यादा

बीते साल दिवाली के बाद 5 दिनों तक धुआं नहीं छंटा था। पॉल्युशन ने 3 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया था। दिल्ली की हवा में पीएम 2.5 की मात्रा 1238 दर्ज की गई थी। इसका लेवल जीरो से 60 के बीच सुरक्षित माना जाता है। दिल्ली में वायु पॉल्युशन का स्तर 60 गुना तक बढ़ गया था। देश की 10 सबसे पॉल्युटेड जगहों में से 8 दिल्ली-एनसीआर की थी। देश की 20 जगहों पर एयर पॉल्युशन 40 गुना तक ज्यदा दर्ज किया गया था।

 

 


कमेंट करें