नेशनल

दिल्ली हाईकोर्ट से स्पाइसजेट को बड़ा झटका, 250 करोड़ जमा कराने का आदेश

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
163
| जुलाई 3 , 2017 , 20:47 IST | नयी दिल्ली

दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को विमानन कंपनी स्पाइसजेट को पिछले मालिक कलानिधि मारन के साथ हिस्सेदारी हस्तांतरण विवाद के मामले में 250 करोड़ रुपये नकद तथा 229 करोड़ रुपये बैंक गारंटी के रूप में जमा करने आदेश दिया।

न्यायमूर्ति एस. रवींद्र भट्ट और न्यायमूर्ति योगेश खन्ना की खंडपीठ ने यह आदेश स्पाइसजेट और उसके सहसंस्थापक अजय सिंह की तरफ से दायर उस याचिका की सुनवाई के बाद दिया, जिसमें उन्होंने एकल न्यायाधीश के आदेश को खारिज करने की मांग की थी। एकल पीठ ने मारन के साथ विवाद में 579 करोड़ रुपये जमा कराने का आदेश दिया था।

खंडपीठ ने स्पाइसजेट को 31 अगस्त तक 250 करोड़ रुपये नकद जमा करने का आदेश दिया है।

Delhi-high-court

इस आदेश के तुरंत बाद मामले में उपस्थित वकीलों ने राशि के विभाजन को लेकर कुछ स्पष्टीकरण मांगा क्योंकि पीठ ने शुरुआत में कहा था कि 250 करोड़ रुपये नकद और 229 करोड़ रुपये बैंक गारंटी के रूप में जमा कराए जाएं। यह कुल राशि से 100 करोड़ रुपये कम है। इस पर पीठ ने कहा कि वह इस गलती को सुधारेगी। अदालत ने एकल जज के उस आदेश में संशोधन किया है जिसमें पूरी राशि किस्तों में 12 माह की अवधि में जमा कराने को कहा गया था।

0000000000000

स्पाइस जेट और सिंह ने एकल न्यायाधीश के पिछले साल जुलाई के अंतरिम आदेश को यह कहते हुए चुनौती दी थी कि अदालत को इसका अधिकार नहीं है। एकल न्यायाधीश का यह आदेश सन समूह के प्रमुख कालानिधि मारन और उनकी केल एयरवेज द्वारा दायर दिवानी मामले में दिया गया था।


कमेंट करें