नेशनल

मुख्य सचिव मारपीट मामला: पुलिस ने केजरीवाल के घर से सीज किए 21 CCTV

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
412
| फरवरी 23 , 2018 , 15:03 IST

दिल्ली के मुख्य सचिव से मारपीट मामले में दो गिरफ्तारीयों के बाद दिल्ली पुलिस मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से पूछताछ करेगी। केजरीवाल के आवास पर पहुंची टीम सीसीटीवी फुटेज के साथ-साथ उस कमरे का भी निरीक्षण करेगी।

दिल्ली पुलिस ने केजरीवाल के घर से 21 CCTV DVR सीज की है। दिल्ली पुलिस ने बताया है कि आज सीएम से पूछताछ नहीं की गई है। जांच के दौरान केजरीवाल 40 मिनट घर पर ही थे। जांच कर रही पुलिस ने सीएम स्टाफ को घर से बाहर जाने के लिए कहा है।

नॉर्थ डिस्ट्रिक्ट के अडिशनल डीसीपी हरेंद्र कुमार सिंह के नेतृत्व में पुलिस दल सीएम हाउस पहुंचा है। पुलिस टीम के साथ फरेंसिक एक्सपर्ट की टीम भी मौजूद है। मामले की जांच कर रही पुलिस थप्पड़कांड वाली रात वहां मौजूद विधायकों से भी पूछताछ कर सकती है।

इस मामले पर केजरीवाल ने केंद्र सरकार पर बड़ा हमला करते हुए कहा कि "जितनी शिद्दत के साथ इस मामले की जांच की जा रही है, इसकी मुझे बेहद खुशी है लेकिन मैं जांच एजेंसियों से कहना चाहता हूं कि जज लोया के कत्ल की जांच के मामले में वे अमित शाह से पूछताछ करने की भी हिम्मत दिखाएं"।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सलाहकार वी के जैन के बयान के बाद से यह स्पष्ट हो चुका है कि सोमवार आधी रात को लगभग 12 बजे सीएम हाउस के अंदर सीएस अंशु प्रकाश के साथ विधायकों द्वारा बदसलूकी व मारपीट की गई थी।

सिविल लाइन थाने में अंशु प्रकाश द्वारा शिकायत मिलने के बाद एफआईआर दर्ज की जा चुकी है। पहले पुलिस को सुबह 9:30 बजे सीएम हाउस में पहुंचना था, लेकिन बाद में इसमें देरी हुई और फिर करीब 11.30 बजे पुलिस केजरीवाल के आवास पर पहुंची।

इस मामले में आम आदमी प्रवक्ता आशुतोष ने कहा कि केंद्र सरकार हमें चाहें जितना डराने की कोशिश करे, हम डरने वाले नहीं हैं। केंद्र हमारी सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है। केंद्र सरकार घबराई हुई है, उन्होंने कहा कि सरकार असल मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए ये कार्रवाई कर रही है।

घटनास्थल पर मौजूद एक अहम व्यक्ति (वीके जैन) अदालत के सामने 164 के बयान दे चुके हैं और यह बता चुके हैं कि वहां पर अंशु प्रकाश के साथ मारपीट हुई, उन्हें धमकी दी गई। यह सब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के सामने हुआ।

दिल्ली पुलिस के बार बार मांगने के बावजूद भी सीसीटीवी कैमरे की फुटेज नहीं दी जा रही है। यही कारण है कि दिल्ली पुलिस को आज घटनास्थल का मुआयना करने के लिए जाना पड़ा है। जांच के विषय के लिए भी यह बहुत जरूरी है कि जांच अधिकारी मौका-ए-वारदात को मुआयना करे।

इसे भी पढें-: नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने थामा कांग्रेस का हाथ, आजाद बोले- यह बदलते समय का संकेत है

यही कारण है कि उस कमरे का निरीक्षण कर भी बेहद जरूरी है। इसे रेड न कहते हुए मौका-ए-वारदात का मुआयना या निरीक्षण कहना ज्यादा ठीक रहेगा। यही कारण है कि इस कार्रवाई के लिए किसी से परमिशन लेने की भी कोई जरूरत नहीं है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।


कमेंट करें