नेशनल

एअर इंडिया से सफर है खतरनाक क्योंकि पायलट शराब पीकर भरते हैं उड़ान!

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
90
| सितंबर 6 , 2017 , 15:14 IST | नई दिल्ली

नागर विमानन महानिदेशालय डीजीसीए ने पाया कि पिछले साल कथित तौर पर एयर इंडिया के 130 पायलट और 430 क्रू सदस्यों ने उड़ान से पहले और बाद में अनिवार्य अल्कोहल जांच से बचते रहे हैं। ऐसे में इन पायलटों और क्रू सदस्यों को ड्यूटी से हटाया जा सकता है।

सूत्रों ने बताया कि ये क्रू सदस्य सिंगापुर, कुवैत, बैंकॉक, अहमदाबाद और गोवा जैसी जगहों की उड़ानों में काफी समय तक नियमित तौर पर अल्कोहल जांच से बचते रहे हैं। उन्होंने बताया कि डीजीसीए क्रू सदस्यों द्वारा सुरक्षा मानकों के कथित उल्लंघन को लेकर पहले ही एयर इंडिया प्रबंधन को अंतिम चेतावनी दे चुका है।

Pilot

उड़ान से पहले अल्कोहल जांच कराना अनिवार्य

डीजीसीए के सुरक्षा मानकों के अनुसार, उड़ान से पहले सभी क्रू सदस्यों और पायलटों का अल्कोहल जांच से गुजरना अनिवार्य है। एयर इंडिया ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वह डीजीसीए के प्रावधानों का पूरी तरह पालन करता रहा है और वह नियामक के हर दिशानिर्देशों का पालन करता रहेगा।

132 पायलटों ने अनिवार्य अल्कोहल जांच का किया उल्लंघन

एयर इंडिया ने बयान जारी कर कहा, हम डीजीसीए के साथ काम कर रहे हैं और डीजीसीए के सभी दिशानिर्देशों का पालन करेंगे। एक सूत्र ने बताया, डीजीसीए एयर इंडिया प्रबंधन के संज्ञान में यह बात ला चुका है कि उसके 132 पायलटों और 434 क्रू सदस्यों ने अनिवार्य अल्कोहल जांच का उल्लंघन किया है।

Ai

DGCA पायलट और क्रू मेंबर के खिलाफ करेगी कार्रवाई

यह सुरक्षा मानकों का उल्लंघन है और डीजीसीए इस बाबत इन क्रू सदस्यों के खिलाफ आवश्यक कदम उठएगी। इतने क्रू सदस्यों को एक बार में इतने पायलट और क्रू सदस्यों को काम से नहीं हटा सकता है इससे उसके समक्ष परिचालन में दिक्कतें आ सकती हैं इस कारण संभवत: डीजीसीए चरणबद्ध तरीके से आरोपी पायलट और क्रू मेंबर के खिलाफ कदम उठाएगी।

 

 


कमेंट करें