अभी-अभी

आखिर क्यों अलग है लखनऊ मेट्रो? जानिए क्या है खास

| 0
160
| जनवरी 1 , 1970 , 05:30 IST | लखनऊ

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मंगलवार को लखनऊ मेट्रो सेवा को हरी झंडी दिखाने वाले है। बता दें कि मेट्रो को ट्रांसपोर्ट नगर मेट्रो स्टेशन से रवाना किया जाएगा। हालांकि नागरिकों के लिए बुधवार से मेट्रो सेवा प्रारंभ होगी। मेट्रो की शुरूआत होने के बाद लखनऊ की सड़कों पर ट्रैफिक कम नजर आने की उम्मीद जताई जा रही है। लखनऊ मेट्रो दूसरी मेट्रो की तुलना में काफी एडवांस और अलग है।

लखनऊ मेट्रो के खास फीचर्स:

- मेट्रो के पहियो से बिजली बनाई जा सकेगी।

- यह मेट्रो हर स्टेशन पर खुद-ब-खुद रुकेगी।

- मेट्रो में सफर करने वाले यात्रियों पर कंट्रोल रूम से नजर रखी जा सकेगी।

- अगर कोई इमरजेंसी आन पड़ी तो कंट्रोल रूम से ही इमरजेंसी ब्रेक लगाए जा सकेंगे।

- वहीं इमरजेंसी के वक्त में यात्री सीधे तौर पर ट्रेन ऑपरेटर से बात कर सकेंगे।

- इस मेट्रो में खास बात यह है कि तीन साल तक के बच्चों के लिए गेट फ्री में खुलेंगे।

Lucknow-metro-4

- इस मेट्रो में लगी एलईडी लाइट ऑटोमेटिक है। बाहर के उजाले के मुताबिक ये खुद-ब-खुद कम ज्यादा होती रहेगी।

- स्टेशनों में फ्री वाई-फाई की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। जो कि अभी दिल्ली मेट्रो में मौजूद नहीं है।

- इसके अतिरिक्त ट्रेन आधुनिक तकनीकि से लेस है। यह रफ्तार तेजी से पकड़ती है और इसे उतनी ही तेजी से रोका भी जा सकता है।

27-lm

बता दें कि लखनऊ मेट्रो के पहले चरण का काम पूरा करने में तीन साल का वक्त लगा है और इसमें करीब 4 हजार मजदूरो ने काम किया। इस 4 कोच की मेट्रो में एक दिन में करीब 3 लाख यात्री सफर कर सकते है। वहीं 8 मेट्रो स्टेशनों के बीच का फासला साढ़े आठ किलोमीटर का है जहां ये मेट्रो दौड़ेगी।


author

कमेंट करें