विज्ञान/टेक्नोलॉजी

ये 'नाग' दुश्मनों की तस्वीर देखकर करता है अटैक

अमितेष युवराज सिंह, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
262
| जून 14 , 2017 , 13:16 IST | जैसलमेर

दुश्मनों पर कहर बरपाने के लिए भारत ने एक नया हथियार तैयार कर लिया है। जी हां रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने टैंक भेदी मिसाइल 'नाग' का राजस्थान के पश्चिमी क्षेत्र के रेगिस्तान में सफल परीक्षण किया है। इस मिसाइल ने मंगलवार के मिशन में लक्ष्य को सफलतापूर्वक नष्ट कर दिया। 

थर्ड जनरेशन नाग मिसाइल ने चार किलोमीटर दूर लक्ष्य के लिए निर्धारित एक टैंक को उड़ा दिया। इस अत्याधुनिक मिसाइल के परीक्षण के मौके पर डीआरडीओ, रक्षा प्रयोगशाला (जोधपुर) के वैज्ञानिक, शस्त्र बलों के वरिष्ठ अधिकारी तथा अन्य लोग उपस्थित थे। रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार जी सतीश रेड्डी ने कहा कि,

इस सफल परीक्षण से देश की रक्षा क्षमताओं को मजबूती मिली है।

NAG MISSILE

डीआरडीओ के प्रमुख डॉक्टर क्रिस्टोफर ने मिशन का हिस्सा रही टीम को बधाई दी। तीसरी पीढ़ी की एंटी टैंक मिसाइल 'नाग' का परीक्षण जैसलमेर की पोखरण क्षेत्र में किया गया। डीआरडीओ निर्मित मिसाइल का परीक्षण चार दिन तक चलेगा। पाकिस्तान सीमा के पास पोखरण फायरिंग रेंज में इस मिसाइल का परीक्षण महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इसी फायरिंग क्षेत्र में अमेरिका से खरीदी गयी यूएवी होवित्जर तोपों का परीक्षण भी इन दिनों चल रहा है।

1200px-Nag_with_NAMICA_Defexpo-2008

पिछले वर्ष बीकानेर फायरिंग क्षेत्र में इसी मिसाइल का परीक्षण किया गया था, लेकिन उस दौरान उच्च तापमान में मिसाइल के परीक्षण में कुछ तकनीकी खामियां सामने आयी थीं। पिछले वर्ष मिसाइल की मारक क्षमता चार किलोमीटर रखी गयी थी, लेकिन इस बार तीन किलो मीटर रखी गयी है। पिछले वर्ष इस मिसाइल को गाइड करने के लिए इसमें लगा इमेजिंग इंफ्रा रेड सिकर अधिक गर्मी के दौरान सही काम नहीं कर सका था, इसलिए एक बार फिर मिसाइल का परीक्षण किया जा रहा है।

इस मिसाइल प्रोजेक्ट की लागत 350 करोड़ रुपये से अधिक है। अब परीक्षण में मिसाइल में उच्च क्षमता के उपकरण लगाये गये हैं। यह अधिक गर्मी में भी मिसाइल को दिशा नहीं भटकने देंगे।

Nag-missile2


कमेंट करें

Ganesh nimivanshi

Bahut achhi report Hai... Achhi website hai... Keep it uo