नेशनल

लोकसभा और विधानसभा चुनाव जल्द होंगे एक-साथ! चुनाव आयोग ने किया इशारा

ललिता सेन, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
202
| अक्टूबर 5 , 2017 , 12:17 IST | नई दिल्ली

देश में लोकसभा और विधानसभा चुनाव कराने के लिए चुनाव आयोग तैयार है। भारत निर्वाचन आयोग के आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि सितंबर-2018 तक निर्वाचन आयोग दो-दो चुनाव एक साथ कराने के लिए सक्षम हो जाएगा। उन्होंने कहा कि जहां तक लोकसभा और विधानसभा चुनाव को एक साथ कराने की बात है तो ये संविधान संशोधन के जरिए ही संभव होगा। इस पर निर्वाचन आयोग अलग से कोई फैसला नहीं ले सकता है।

ओपी रावत ने कहा है कि लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने के लिए करीब 40 लाख मशीनों की जरूरत होगी, जिसकी पूर्ति होने पर चुनाव आयोग एक साथ चुनाव कराने में सक्षम होगा। उन्होंने बताया कि केंद्र के अनुरोध पर एक साथ चुनाव करने के लिए जरूरी मशीनों और संसाधनों की जानकारी सरकार को भेजी गई है।

Ec

बता दें कि, चुनाव आयोग ने डुप्लीकेट मतदाता की पहचान के लिए मध्य प्रदेश में ईआरओ नेट एप की शुरुआत की है। इसके तहत वोटर का नाम और उसका पूरा ब्यौरा ईआरओ नेट एप पर डाला जा सकेगा। अगर वोटर का नाम पहले से दर्ज होगा तो उसकी जानकारी सामने आ जाएगी।

इस नए ऐप ईआरओ-नेट से डुप्लीकेसन की समस्या खत्म हो जाएगी। मध्य प्रदेश में करीब 1.2 लाख ऐसे वोटरकार्ड निरस्त किए गए हैं।

बताया जा रहा है कि, केन्द्र सरकार की तरफ से वीवीपैट मशीन के लिये 3400 करोड़ रुपये और ईवीएम के लिये 12 हजार करोड़ रुपये दिए गए हैं। दो सरकारी क्षेत्र की कंपनियों को मशीनों के ऑर्डर भी दिए गए हैं।

निर्वाचन आयोग के आयुक्त ओपी रावत के मुताबिक, सितम्बर 2018 तक चुनाव आयोग के पास सभी मशीनें पहुंच जाएंगी।  उन्होंने कहा कि उसके बाद जब भी सरकार चाहेगी, चुनाव आयोग लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने में सक्षम होगा।

2018 में 7 राज्यों के विधानसभा चुनाव होने हैं। गुजरात, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड और त्रिपुरा जिसमें से 6 राज्यों के चुनाव सितंबर से पहले संभावित हैं।


कमेंट करें