नेशनल

दुनिया भर में ईद की रौनक, भारत में सोमवार को मनेगी, जानिये ईद का इतिहास

अनुराग गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
111
| जून 25 , 2017 , 17:43 IST | नई दिल्ली

सऊदी अरब, कतर और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में रविवार को ईद मनाई जा रही है। जबकि भारत में सोमवार को ईद मनाई जाएगी। दरअसल, रविवार के दिन ईद मनाने का फैसला रमजान के महीने के बाद चांद नजर आने के बाद लिया गया है।

बता दें कि रविवार को ईद मनाए जाए का ऐलान ट्विटर के जरिए किया गया। मक्का और मदीना के बारे में जानकारी देने वाले हरमाइन के अधिकारिक ट्विटर ने कहा कि सऊदी अरब में चांद देखा गया है। रविवार, 25 जून 2017 को ईद मनाई जाएगी।

INDIA-RELIGION-ISLAM-EID_2035387

दरअसल, रमजान के पवित्र महीने में ईद-उल-फितर का त्योहार मनाया जाता है। ईद दुनिया भर के मुसलमानों का एक बेहद खास त्योहार है। यह त्योहार रमजान में मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि रमजान का महीना इस्लामिक कैलेण्डर का सबसे पाक महीना होता है। इसलिए इस महीने में हर मुसलमान को अपने खुदा यानि की अल्लाह का शुक्र अदा करना, रोजा रखना, जकात देना, दान करना इत्यादि फर्ज निभाने होते है।

ऐसा माना जो रमजान के महीने में पुण्य करता है उसे उसका फल भी अधिक मिलता है। रमजान महीने के आखिरी दिन जब आसमान में चांद दिखता है उसके दूसरे दिन ईद मनाई जाती है। बता दें कि इस्लामिक कैलेण्डर के मुताबिक रमजान का महीना पूरे 30 दिनों का होता है, इसलिए 30 दिन तक रोजा रखते हैं।

IMG-20160707-WA0010-797138

ईद-उल-फितर या फिर कहे मीठी ईद 624 ईस्वी में पहली बार मनाई गई थी। बता दें कि ईद पैगम्बर हजरत मुहम्मद के युद्ध में जीत हासिल करने की खुशी में मनाई गई थी। तभी से ईद मनाने की परंपरा की शुरूआत हुई।

रमजान के दिनों रोजा रखने वाला मुसलमान इफ्तार और सहरी के दौरान ही कुछ खाता है। इसके अलावा वो पानी तक नहीं पीता। इस्लामिक कैलेण्डर के मुताबिक साल में 2 बार ईद मनाई जाती है। एक ईद-उल-फितर होती है तो दूसरी ईद-उल-जुहा।

ईद-उल-फितर को मीठी ईद भी कहा जाता है। जबकि ईद-उल-जुहा को बकरीद के नाम से जानते है। ऐसा माना जाता है कि रमजान के महीने की 27वीं रात को कुरान का अवतरण हुआ था। इसी वजह से इस महीने ज्यादा कुरान पढ़ने का फर्ज है।


कमेंट करें