अभी-अभी

संविधानविद् फली एस नरीमन ने कहा, NDTV पर CBI के छापे मीडिया की आजादी पर हमला

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
141
| जून 9 , 2017 , 20:59 IST | नयी दिल्ली

जाने-माने संविधान विशेषज्ञ फली एस. नरीमन ने निजी टेलीविजन चैनल एनडीटीवी के संस्थापक प्रणय रॉय के आवास की तलाशी लेने के लिए केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की शुक्रवार को निंदा की। नरीमन ने दिल्ली के प्रेस क्लब में पत्रकारों की एक बैठक में कहा कि अपराध के लिए किसी पर कार्रवाई की जा सकती है, लेकिन इस मामले में सीबीआई ने जो कारण बताया है, उससे उन्हें पूरा विश्वास हो गया है कि यह प्रेस और मीडिया की आजादी पर हमला है।

Press-club-620x400

उन्होंने कहा कि सीबीआई ने दो जून को एक प्राथमिकी दर्ज की थी, जिसमें 2008-09 के दौरान घटी किसी घटना को लेकर रॉय, उनकी पत्नी राधिका, एनडीटीवी, आईसीआईसीआई के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश रचने का आरोप लगाया गया है।  नरीमन ने कहा, "इसे पहले प्रकाश में क्यों नहीं लाया गया, इसका कहीं कोई जिक्र नहीं है।"

नरीमन ने कहा कि सीबीआई ने प्राथमिकी मात्र एक शिकायत पर दर्ज की, न कि किसी छानबीन या खुलासे के आधार पर। उन्होंने कहा, "एफआईआर एक निजी व्यक्ति द्वारा दी गई सूचना पर ही सिर्फ दर्ज कर दी गई।"

Fali-Nariman_website1471337949-cropped

उन्होंने कहा कि सीबीआई ने यह छापा तब मारा, जब चंद दिनों पूर्व भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा को एनडीटीवी के एक शो से चले जाने को कहा गया था। पात्रा ने शो के दौरान चैनल पर एक एजेंडे के साथ काम करने का आरोप लगाया था। नरीमन ने कहा कि शिकायत मिलने के तुरंत बाद सीबीआई ने प्रणय रॉय के खिलाफ आपराधिक जांच शुरू कर दी। उन्होंने कहा, "शिकायतकर्ता को कहा जाना चाहिए था कि वह किसी फौजदारी अदालत में शिकायत दर्ज कराए, लेकिन इसके बजाय छापे मारे गए, जो व्यापक तौर पर प्रकाशित हुआ।" 

Dr-prannoy-roy-650_650x400_41430681480

उन्होंने कहा, "हम नागरिकों को आजादी मिली हुई है, जो दुनिया के बहुत से जगहों पर नहीं है। संविधान में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की गारंटी दी गई है।"

Prannoy-Roy-NDTV


कमेंट करें