नेशनल

धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में कीजिये तिरुपति बालाजी के दर्शन, रोजाना रात 9 बजे तक खुलेगा मंदिर

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1741
| जुलाई 1 , 2018 , 20:08 IST

अगर आप श्री वेंकटेश्वर तिरुपति बालाजी मंदिर का दर्शन करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको आंध्र प्रदेश जाने की जरूरत नहीं है। आप हरियाणा में भी इस मंदिर में जाकर पूजा-अर्चना और दर्शन कर सकते हैं। तिरुपति बालाजी मंदिर हरियाणा के कुरुक्षेत्र में भी बनकर तैयार हो गया है। पहली जुलाई यानि रविवार से यह मंदिर लोगों के लिए खुल गया है। 

भगवान वेंकटेश्वर तिरुपति बालाजी मंदिर को दर्शन के लिये सुबह 6 बजे से लेकर रात्रि 9 बजे तक श्रद्धालुओं के लिए खोला जाएगा।

मंदिर के निर्माण में 15000 टन पत्थर लगाया गया है। भगवान तिरुपति बाला जी की अद्भुत मूर्ति करीब 9 फुट की है। जिसे खास ग्रेनाइट पत्थर से तैयार किया गया है। राजगोपरम यानि मंदिर का करीब 55 फुट ऊंचा दक्षिण भारतीय शैली में बना यह प्रवेश द्वार श्रद्धालुओं के लिए आकर्षण का केंद्र है। राजगोपरम से प्रवेश करने के बाद बलिपीठम, ध्वजम स्तंभम, गरूड मंदिर, मुखमडपम, महामंडपम, अर्धमंडपम और गर्भालय, इसी स्थान पर भगवान तिरुपति बालाजी विराजमान होंगे। मंदिर दाएं और बाएं दोनों ओर भू देवी और श्रीदेवी के मंदिर हैं। दक्षिण भारत के कारीगरों ने विशेष तौर पर मंदिर में लगे पत्थर को तराशा है। श्री वेंकटेश्वर बालाजी मंदिर के आचार्य का कहना है कि पूरे विधान से मंदिर में मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा की जा रही है।

मंदिर के प्रवेश द्वार यानी गोपुरम की ऊंचाई 55 फुट 6 इंच है। सागवान वृक्ष के 48 फीट लंबे तने से ध्वजा तैयार की जा रहा है। यह मंदिर प्रतिदिन सुबह 6:00 बजे से रात्रि 9:00 बजे तक श्रद्धालुओं के लिए खुलेगा।

दो हजार लीटर दूध से हुआ स्नान फिर हुआ ध्वजारोहण-

तिरुपति बालाजी मंदिर में मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा के लिये जारी धार्मिक अनुष्ठान के दौरान मंत्रोच्चारण के बीच भगवान की मूर्ति का 2 हजार लीटर दूध से स्नान और ध्वजारोहण हुआ। 

आंध्र प्रदेश के तिरुपति के बाद दुनिया में यह दूसरा तिरुपति बालाजी मंदिर होगा। दरअसल धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के मकसद से तत्कालीन सांसद नवीन जिंदल ने कुरुक्षेत्र में श्री वेंकटेश्वर भगवान बालाजी के मंदिर की परिकल्पना की थी। इसके लिए उन्होंने हरियाणा सरकार को जमीन देने के लिए राजी किया। नवीन जिंदल के प्रयासों से श्री तिरुमला तिरुपति देवस्थानम ट्रस्ट ने धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में भगवान बालाजी का मंदिर बनाने की योजना तैयार की।

669627cd-8934-474e-b615-e9922458aa56

आपको बता दें कि नवीन जिंदल भगवान वेंकटेश्वर के उपासक हैं। 14 अगस्त 2012 को हरियाणा के तत्कालीन राज्यपाल जगन्नाथ पहाड़िया, तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा और तत्कालीन सांसद नवीन जिंदल ने इस मंदिर का शिलान्यास किया। लगभग 6 साल के अरसे के बाद ये भव्य मंदिर बना है। तिरुमला की तर्ज पर ही इस मंदिर को बनाया गया है। इस मंदिर के निर्माण के लिए नवीन जिंदल ने तिरुमला ट्रस्ट को दान के रुप में 1 करोड़ रुपये की राशि दी थी।

इस मंदिर के निर्माण के लिए कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड ने 2 हेक्टेयर से भी ज्यादा जमीन तिरुमला तिरुपति देवस्थानम ट्रस्ट को दी है। इस जमीन पर करीब 34 करोड़ रुपए की लागत से यह भव्य मंदिर बनकर तैयार हुआ है। परिसर में अभी और भी निर्माण होना है। मंदिर के नोडल ऑफिसर प्रेम चन्द गांगल का कहना है कि वेंकटेश्वर भगवान के लिए भव्य राज प्रसाद व कई अन्य और भवन बनने हैं। फलस्वरुप इसकी लागत 40 करोड रुपए से भी ऊपर जाने की संभावना है।

 


कमेंट करें