इंटरनेशनल

आतंकी फंडिग पर पाकिस्तान को झटका FATF ने ग्रे लिस्ट में डाला, भारत ने किया स्वागत

दीपक गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1471
| जून 30 , 2018 , 18:24 IST

आतंकवादियों की सबसे बड़ी पनाहगार बन चुके पाकिस्तान को फ्रांस से तगड़ा झटका लगा है। फ्रांस के संगठन फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाला गया है। एफएटीएफ के फैसले का स्वागत करते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान ने एफएटीएफ के मानकों को लागू करने का आश्वासन दिया था। लेकिन पाक आतंकी फंडिंग रोकने में नाकाम रहा।

बता दें कि पाकिस्तान में भारत के मोस्ट वॉन्टेड आतंकवादी हाफिज सईद और जमात-उद-दावा, लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी संगठन सक्रिय हैं। इसलिए उसका यही अंजाम होना चाहिए। हमें उम्मीद है कि एफएटीएफ के प्लान का समयबध्द तरीके से पालन किया जाएगा। इससे पहले 2012 से 2015 के दौरान भी पाकिस्तान को ग्रे सूची में डाला गया था।

9 देश ग्रे लिस्ट में शामिल

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पेरिस में 24 से 29 जून को एफएटीएफ की समीक्षा बैठक हुई थी, जिसमें पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में 9वें स्थान पर रखा गया। पाकिस्तान के अलावा ग्रे लिस्ट में 8 अन्य देशों इथियोपिया, सर्बिया, श्रीलंका, सीरिया, त्रिनिदाद और टोबेगो, ट्यूनीशिया और यमन शामिल हैं।

 पाकिस्तान में होती है आतंकियों को फंडिंग

रिपोर्ट के मुताबिक फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की समीक्षा बैठक में पाकिस्तान द्वारा आतंकी फंडिंग रोकने के लिए उठाए गए कदमों की रिपोर्ट पेश की थी। पाक ने अगले 15 महीने में आतंकी फंडिंग को रोकने के लिए 26 सूत्रीय एक्शन प्लान पेश किया। एफएटीएफ ने इंटरनेशनल कोऑपरेशन रिव्यू ग्रुप की रिपोर्ट की समीक्षा के बाद पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में शामिल कर लिया।

आईसीआरजी की रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान सीमा पार से हो रही फंडिंग को रोकने में नाकाम रहा है। पाक अखबार एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने बताया कि एफएटीएफ ने सभी 9 देशों को समय सीमा में उसके मानकों के तहत आतंकी फंडिंग पर एक्शन लेने के लिए कहा है। इस फैसले से पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उसकी छवि को भी नुकसान होगा। विदेशी निवेश पर भी इसका प्रभाव देखने को मिल सकता है।

 क्या है फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स

जी-7 देशों की पहल पर एफएटीएफ की स्थापना 1989 में हुई थी। ये एक अंतरराष्ट्रीय निकाय है। इस संगठन के सदस्यों की संख्या 37 है। भारत भी इस संगठन का सदस्य है। इसका मुख्य उद्देश्य मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकी फंडिंग पर लगाम लगाने में नाकाम देशों की रेटिंग तैयार करना है। एफएटीएफ ऐसे देशों की दो लिस्ट तैयार करता है। पहली लिस्ट ग्रे और दूसरी ब्लैक होती है। ग्रे लिस्ट में शामिल होने वाले देशों को अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं से आर्थिक मदद मिलने में मुश्किल होती है। वहीं, ब्लैक लिस्ट में आने वाले देशों को आर्थिक सहायता मिलने का रास्ता पूरी तरह से बंद हो जाता है।


कमेंट करें