नेशनल

बाढ़ की चपेट में राजस्थान के 11 जिले, 700 मिलीमीटर तक बारिश दर्ज़

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
460
| जुलाई 25 , 2017 , 15:19 IST | राजस्थान

गुजरात और राजस्थान में आसमानी आफत का दौर जारी है। पिछले 24 घंटों में राजस्थान के 11 जिलों में जोरदार बारिश दर्ज की गई है। सिरोही और जालोर के कई इलाकों में 100 मिलीमीटर से लेकर सात सौ मिलीमीटर बारिश हो चुकी है।

भारी बारिश ने हालात बिगाड़ दिए हैं। पिछले तीन चार दिनों से हो रही तेज बारिश के कारण बाढ़ से हालात हो गए हैं। मूसलाधार बारिश के कारण जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है।कुछ इलाकों में फंसे लोगों को आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से रेस्क्यू किया जा रहा है।

जालौर के सियाणी में तो आधा दर्जन नदी में फंस गए। पेड़ पर बैठ कर मदद की गुहार कर रहे हैं तो आकोली में छतों पर कैद है। लगातार बारिस औऱ मौसम खराब होने से हेलिकॉप्टर से राहत में मुश्किल आ रही है। मदद के लिए सेना और एनडीआरएफ को भेजा गया।

सेना प्रवक्ता मनीष आेझा ने बताया कि सेना की बेटल एक्स टुकडियों ने पाली जिले पावटा गांव में फंसे 31 लोगों को बचा कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। सेना ने राहत एवं बचाव कार्य के लिए कई टुकडियों को तैनात किया है। आेझा ने बताया कि सेना की अन्य टुकडियां जालौर और सांचोर में भी बाढ बचाव कार्य में लगी हुई है।

यह पहली बार है जब जवाई बांध के गेट खोले बिना ही जवाई नदी चल रही है और यदि गेट खोल दिए गए तो हालात और भी विकट हो जाएंगे। जालोर जिले में तो बढ़ते पानी की वजह से हालात समस्याजनित हो रहे हैं। परन्तु शहर में अभी तक जल भराव नहीं हुआ है। हालांकि जवाई नदी में पानी आने के बाद अब स्तर बढ़ने लगा है। यदि जवाई बांध की फाटक अभी खुल गए तो आहोर व जालोर क्षेत्र में स्थितियां विकट होते देर नहीं लगेगी। जवाई बांध नियंत्रण कक्ष के अनुसार अभी तक बांध में करीब 56 सौ एमसीएफटी पानी आ चुका है। बांध का कुल गेज 61.25 फीट है और इसमें करीब 74 सौ एमसीएफटी पानी की क्षमता है। रात 11 बजे के अपडेट तक जवाई बांध का गेज करीब 54 फीट पहुंच चुका था। इससे पूर्व रात्रि साढ़े नौ बजे यह 53.75 आंका गया था। 

बांसवाडा, बाड़मेर, भीलवाड़ा, डूंगरपुर, जैसलमेर, जालोर, जोधपुर, पाली, प्रतापगढ़, राजसमंद, सिरोही और उदयपुर में बारिश का क्रम लगातार जारी है। सबसे ज्यादा जालोर और सिरोही में भारी बारिश ने हालात बिगाड़ दिए हैं। प्रदेशभर में मानसूनी सीजन में जितनी बारिश होती है उसकी तीन गुना ज्यादा बारिश सिर्फ माउंट आबू में हो चुकी है। रेवदर में दो दिनों में ही 800 मिलमीटर, सिरोही में 680मिलीमीटर, आबूरोड पर पांच सो मिलीमीटर सांचोर में पांच सौ मिली मीटर बारिश हो चुकी है।



मौसम विशेषज्ञों के अनुसार माउंट आबू में बादल फटने जैसी बारिश का क्रम लगातार जारी है। इस तरह की बारिश ने पुराने तमाम रिकॉर्ड्स को धराशाही कर दिया है। मौसम विभाग ने मंगलवार को दक्षिण-पश्चिम राजस्थान में भारी बारिश की चेतावनी दी है।



कमेंट करें